Skip to main content

Knowledge Centre - Bombay Blood Groups, संजीवनी बना ‘बॉम्बे ब्लड ग्रुप’ : 10 हजार में से एक व्यक्ति में होता है यह ब्लड ग्रुप

The discovery of Bombay Blood Group was made more than 50 years ago with a patient who was admitted to KEM Hospital and required blood transfusions. A sample of blood was sent to the Blood Bank for grouping as is the usual practice. The red cells grouped like O group and hence O group blood was administered. The patient developed haemolytic transfusion reaction, and therefore transfusion had to be stopped. 

A detailed study of the patients blood revealed a rare genotype (blood group), which was neither ‘A’ nor ‘B’ nor ‘AB’ nor ‘O’. Since the first case was detected in Mumbai (then Bombay), the blood group came to be called as Bombay Blood Group. Blood from a Bombay Blood Group individual only should be transfused to a Bombay Blood Group patient. 

  • संजीवनी बना ‘बॉम्बे ब्लड ग्रुप’ 
  • राज्यभर के जरूरतमंदों को कराया जाता है उपलब्ध 
  • 10 हजार में से एक व्यक्ति में होता है यह ब्लड ग्रुप 

दुनिया भर में दुर्लभ माने जाने वाले ‘बॉम्बे ब्लड ग्रुप’ के सदस्यों ने झारखंड में अब तक कई लोगों की जान बचाई है। इस ब्लड ग्रुप के सदस्यों की संख्या बहुत ही सीमित होती है, लिहाजा इन्हें गुप्त रूप से व सहेजकर रखा जाता है। जमशेदपुर जिले के बिष्टुपुर स्थित ब्लड बैंक में कुल छह लोगों का नाम दर्ज है, जिनका ब्लड ग्रुप बॉम्बे है। प्रदेश भर में कहीं भी जरूरत पड़ने पर उन्हें फोन कर बुलाया जाता है।  आंकड़ों के अनुसार प्रतिवर्ष इस ब्लड ग्रुप की मांग 8-10 यूनिट होती है। कुछ दिन पूर्व ही रांची में एक सड़क दुर्घटना में घायल को इस ब्लड ग्रुप की जरूरत पड़ी। 

विशेषज्ञों के अनुसार ‘बॉम्बे ब्लड ग्रुप’ देशभर में दुर्लभ है और अधिकांश लोग इससे अनजान हैं। सामान्य रूप से मुख्यतया चार ब्लड ग्रुप होते हैं। ए, बी, एबी और ओ। ज्यादातर लोगों का ब्लड ग्रुप इन्ही में से होता है। खासतौर पर एशिया में करीब 39 फीसद लोग ओ पॉजिटिव होते हैं। लेकिन इससे परे एक और दुर्लभ ब्लड ग्रुप ‘बॉम्बे ब्लड ग्रुप’ होता है। ब्लड बैंक के अधिकारियों का कहना है इस ग्रुप के रक्तदाताओं को गुप्त तरीके से रखा गया है, ताकि उनका गलत इस्तेमाल न हो सके। 

क्यों दुर्लभ है ‘बॉम्बे ब्लड ग्रुप’
‘बॉम्बे ब्लड ग्रुप’ की लाल रक्त कोशिकाओं में एंटिजन ए, बी या एच मौजूद नहीं होता। ‘बॉम्बे ब्लड ग्रुप’ की यही खासियत इसे अन्य ब्लड ग्रुप से अलग बनाती है। इसकी खोज 1952 में मुंबई के एक हॉस्पिटल में डॉ वाईएम भेंडे द्वारा की गई थी। इसी वजह से इस ब्लड ग्रुप को ‘बॉम्बे ब्लड ग्रुप’ नाम दिया गया। भारत में 10 हजार लोगों में से एक में यह ब्लड ग्रुप पाया जाता है, जबकि यूरोप में 10 लाख लोगों में से एक में यह ब्लड ग्रुप होता है।

बॉम्बे ब्लड ग्रुप में ए या बी एंटिजन न होने की वजह से इसे ओ ब्लड ग्रुप समझने की भूल की जा सकती है। इस भूल से बचने के लिए डॉक्टर रिवर्स ग्रुपिंग या सीरम ग्रुपिंग की सलाह देते हैं। इसे दुर्लभ मानते हुए कई संस्थाएं इस ब्लड ग्रुप को उपलब्ध कराने का काम करती हैं। इसमें थिंक फाउंडेशन, संकल्प इंडिया फाउंडेशन जैसी संस्थाएं प्रमुख हैं। इसके अलावा बॉम्बे ब्लड ग्रुप कम्युनिटीज भी हैं, जहां ऐसे ब्लड ग्रुप के लोग खुद को पंजीकृत कर सकते हैं।‘बॉम्बे ब्लड ग्रुप काफी दुर्लभ है। ऐसे ब्लड ग्रुप के लोगों को बचा कर रखना पड़ता है। ताकि जरूरत पड़ने पर पीड़ित को मदद की जा सकें।

Popular posts from this blog

खुशखबरी : सरकार ने पीपीएफ,एनएससी, सुकन्या समेत अन्य छोटी बचत योजनाओं पर बढ़ाई ब्याज दरें

खुशखबरी : सरकार ने पीपीएफ,एनएससी, सुकन्या समेत अन्य छोटी बचत योजनाओं पर बढ़ाई ब्याज दरें
राष्ट्रीय बचत प्रमाणपत्र (एनएससी) व सार्वजनिक भविष्य निधि (पीपीएफ) समेत लघु बचत योजनाओं में निवेश करने वालोंं के लिए केंद्र सरकार अच्छी खबर लाई है। उसने इनमें ब्याज दर बढ़ाने का फैसला किया है।


केंद्र सरकार ने राष्ट्रीय बचत प्रमाणपत्र (एनएससी) और सार्वजनिक भविष्य निधि (पीपीएफ) समेत लघु बचत योजनाओं के लिए ब्याज दर अक्तूबर-दिसंबर तिमाही के लिए 0.4 प्रतिशत तक बढ़ा दी है।  लघु बचत योजनाओं के लिए ब्याज दरों को तिमाही के आधार पर संशोधित किया जाता है।



वित्तमंत्री ने जारी अधिसूचना में कहा कि वित्त वर्ष 2018-19 की तीसरी तिमाही के लिए विभिन्न लघु बचत योजनाओं की ब्याज दरें संशोधित की जाती हैं।  पांच वर्ष की सावधि जमा, आवर्ती जमा और वरिष्ठ नागरिक बचत योजना की ब्याज दरें बढ़ाकर क्रमश: 7.8 प्रतिशत, 7.3 प्रतिशत और 8.7 प्रतिशत कर दी गयी हैं।  हालांकि बचत जमा के लिए ब्याज दर चार प्रतिशत बरकरार है।

■ पीपीएफ और एनएससी पर मौजूदा 7.6 प्रतिशत की जगह अब आठ प्रतिशत की सालाना दर से ब्याज मिलेगा।■ किसान विकास पत्र पर अब 7.7 प्र…

अब रेलवे के इस एप से बुक कर सकेंगे अनारक्षित और प्लेटफार्म टिकट : आइये जाने कैसे?

यात्रियों को ट्रेन की जनरल टिकट यानि अनारक्षित टिकट के लिए अब लंबी लाइन में नहीं लगना पड़ेगा। ऑनलाइन रिजर्वेशन की तरह ही आप अपने मोबाइल फोन से जनरल टिकट भी बुक करा सकेंगे।

रेल में यात्रा करने वालों के लिए एक अच्छी खबर है। यात्रियों को ट्रेन की जनरल टिकट यानि अनारक्षित टिकट के लिए अब लंबी लाइन में नहीं लगना पड़ेगा। ऑनलाइन रिजर्वेशन की तरह ही आप अपने मोबाइल फोन से जनरल टिकट भी बुक करा सकेंगे।

इसके लिए उपयोगकर्ता को रेलवे द्वारा बनाए गए एप utsonmobile को डाउनलोड कर उसमें अपना रजिस्ट्रेशन करना होगा। इसके बाद रेलवे काउंटर से रिचार्ज करवाकर उससे वह टिकट खरीद सकता है। रेलवे ने मोबाइल फोन के जरिए अनारक्षित टिकट एवं प्लेटफार्म टिकट की बुकिंग को लेकर प्रेस रिलीज जारी कर यह जानकारी दी है।



एेसे करें एप डाउनलोड और टिकट बुकिंग

स्टेप-1
सबसे पहले यात्री को एप utsonmobile में अपना रजिस्ट्रेशन करना होगा। रजिस्ट्रेशन के दौरान यात्री से सम्बंधित सामान्य जानकारी मांगी जाएगी, जिसमें नाम, मोबाइल नंबर, शहर, अधिकतर यात्रा किए जाने वाला रूट, जन्म तिथि, परिचय पत्र के साथ रजिस्ट्रेशन होने के बाद यूजर का नाम तथा …

कृत्रिम गुर्दे दूर करेंगे डायलिसिस का दर्द, 2020 तक बाजार में होगा कृत्रिम गुर्दा

देश में 2.5 लाख लोग गुर्दे संबंधी बीमारी से मौत के मुंह में चले जाते हैं। बीमारी के आखिरी चरण में डायलिसिस या गुर्दा प्रत्यारोपण का विकल्प बचता है जो बहुत खर्चीला है। यह कृत्रिम गुर्दा अपेक्षाकृत सस्ता होगा। उम्मीद है कि 2020 तक कृत्रिम गुर्दो की उपलब्धता बाजार में होगी।

गुर्दे (किडनी) के मरीजों को नया जीवन देने और डायलिसिस की पीड़ा को कम करने के लिए वैज्ञानिक अब कृत्रिम गुर्दे के विकास पर लगे हुए हैं। सब कुछ ठीक रहा तो घुटनों के प्रत्यारोपण की तरह कृत्रिम गुर्दा ट्रांसप्लांट जल्द शुरू होगा। तीन चरणों में बंटे इस प्रोजेक्ट में वैज्ञानिक दूसरे चरण में पहुंच गए हैं।

■ घुटनों के प्रत्यारोपण की तरह ट्रांसप्लांट होगा संभव
■ देश में दिन प्रतिदिन बढ़ रही मरीजों की संख्या

लखनऊ स्थित बाबा साहब भीम राव अंबेडकर विवि के प्राणि विज्ञान विभाग के प्रयोगशाला में कृत्रिम गुर्दे पर अध्ययन चल रहा है। अंबेडकर विवि के कुलपति प्रो.आरसी सोबती के अनुसार यह प्रयोग मृत जानवर (भैंस-बकरी) के शरीर के अंगों में किया जा रहा है। मनुष्य की जीवित कोशिकाओं को मृत जानवर के शरीर में प्रविष्ट कर उसे निर्धारित तापमान एवं अवधि …