Skip to main content

ग्रामीण स्वास्थ्य को लेकर बिहार में हो रहे उत्साहजनक प्रयोग बने देश के लिए रोड मैप : बेहद कम खर्च में अच्छे नतीजे को आशा भरी नजरों से देखा जा रहा

स्वास्थ्य पैमानों पर फिसड्डी माने जाते रहे बिहार में इन दिनों कई उत्साहजनक प्रयोग हो रहे हैं। जच्चा - बच्चा की जिंदगी बचाने और उन्हें सेहतमंद बनाने के लिए की जा रही कवायदें, इनमें सबसे अहम हैं। इनकी खास बात यह है कि डॉक्टरों की भारी कमी से ये नर्स व कार्यकर्ताओं के कंधों पर चल रही हैं। बेहद कम खर्च में अच्छे नतीजे ला रहे इन नुस्खों को अब देश भर में आशा भरी नजरों से देखा जा रहा है।
In low-income communities, many women and newborns die during pregnancy and childbirth from conditions that can be easily prevented using cost-effective interventions.

सरकारी कार्यक्रमों में डॉक्टरों की भारी कमी की वजह से देशभर में स्वास्थ्य कार्यक्रमों को लोगों तक पहुंचाने का भार मूल रूप से लगभग नौ लाख आशा, 12 लाख आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और दो लाख एएनएम पर है। लेकिन पर्याप्त मानदेय, प्रशिक्षण, संसाधन, प्रोन्नति, प्रोत्साहन आदि की कमी से अधिकांश राज्यों में इनकी कार्यक्षमता बहुत सीमित है। ऐसे में बिहार में पिछले कुछ सालों में इनकी कार्यक्षमता बढ़ाने पर ज्यादा ध्यान दिया गया है।  राज्य सरकार और अंतरराष्ट्रीय गैर सरकारी संगठन ‘बिल एंड मिलिंडा गेट्स फाउंडेशन’ की साङोदारी में हुए इस प्रयोग के नतीजे विभिन्न अध्ययनों में सही साबित हो रहे हैं और इन्हें दूसरी जगहों पर अपनाया जा रहा है।

साझा टीम का गठन
आशा और आंगनबाड़ी कार्यकर्ता अगर अपनी जिम्मेदारियों को प्रभावशाली तरीके से पूरा करें तो जच्चा और बच्चा की मौतों को काफी हद तक कम किया जा सकता है। इनको प्रोत्साहन देने और टीम भावना जगाने के लिए बेगूसराय जिले के 76 उप केंद्रों पर टीम आधारित लक्ष्य व प्रोत्साहन (टीबीजीआइ) योजना शुरू की गई है। उप केंद्र की एएनएम के नेतृत्व में इलाके की सभी आंगनबाड़ी और आशा कार्यकर्ताओं का दल बनाया गया है। टीके लगाने, प्रसव के लिए अस्पताल पहुंचाने आदि जिम्मेदारियों में से इन दलों ने अपने लिए लक्ष्य तय किए हैं। तिमाही के अंत में स्वतंत्र रूप से इनका आकलन कर लक्ष्य पूरा करने वाली टीम को विशेष आयोजन कर जिला प्रशासन से पुरस्कृत कराया जाता है। इससे दो अलग-अलग मंत्रलयों और व्यवस्था में काम करने वाली आंगनबाड़ी व आशा कार्यकर्ताओं के बीच पहली बार नियमित तालमेल हो सका है।

 
मोबाइल पर मदद
स्वास्थ्य से जुड़ी गलत धारणाएं दूर करने और जरूरी संदेश पहुंचाने के लिहाज से आशा और आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को ‘मोबाइल कुंजी’ दी गई है। इसमें चित्र, काटरून आदि से सजे अलग-अलग संदेश वाले 40 कार्ड का एक पैक होता है, जिन्हें ये एक-एक कर लोगों को दिखाती हैं। इन कार्ड पर एक नंबर उपलब्ध होता है, जिसे डायल कर कार्यकर्ता उससे जुड़ी ऑडियो क्लिप भी लोगों को सुनाती हैं। पटना के खोरमपुर आंगनबाड़ी की कार्यकर्ता रिंकी कहती हैं, ‘इसकी मदद से हम लोग भी हाई-फाई हो गई हैं। हम उन्हें बताती हैं कि इस पर डॉक्टर अनीता आपसे बात करेंगी तो लोग बहुत ध्यान से सुनते हैं।

Popular posts from this blog

अब रेलवे के इस एप से बुक कर सकेंगे अनारक्षित और प्लेटफार्म टिकट : आइये जाने कैसे?

यात्रियों को ट्रेन की जनरल टिकट यानि अनारक्षित टिकट के लिए अब लंबी लाइन में नहीं लगना पड़ेगा। ऑनलाइन रिजर्वेशन की तरह ही आप अपने मोबाइल फोन से जनरल टिकट भी बुक करा सकेंगे।

रेल में यात्रा करने वालों के लिए एक अच्छी खबर है। यात्रियों को ट्रेन की जनरल टिकट यानि अनारक्षित टिकट के लिए अब लंबी लाइन में नहीं लगना पड़ेगा। ऑनलाइन रिजर्वेशन की तरह ही आप अपने मोबाइल फोन से जनरल टिकट भी बुक करा सकेंगे।

इसके लिए उपयोगकर्ता को रेलवे द्वारा बनाए गए एप utsonmobile को डाउनलोड कर उसमें अपना रजिस्ट्रेशन करना होगा। इसके बाद रेलवे काउंटर से रिचार्ज करवाकर उससे वह टिकट खरीद सकता है। रेलवे ने मोबाइल फोन के जरिए अनारक्षित टिकट एवं प्लेटफार्म टिकट की बुकिंग को लेकर प्रेस रिलीज जारी कर यह जानकारी दी है।



एेसे करें एप डाउनलोड और टिकट बुकिंग

स्टेप-1
सबसे पहले यात्री को एप utsonmobile में अपना रजिस्ट्रेशन करना होगा। रजिस्ट्रेशन के दौरान यात्री से सम्बंधित सामान्य जानकारी मांगी जाएगी, जिसमें नाम, मोबाइल नंबर, शहर, अधिकतर यात्रा किए जाने वाला रूट, जन्म तिथि, परिचय पत्र के साथ रजिस्ट्रेशन होने के बाद यूजर का नाम तथा …

कृत्रिम गुर्दे दूर करेंगे डायलिसिस का दर्द, 2020 तक बाजार में होगा कृत्रिम गुर्दा

देश में 2.5 लाख लोग गुर्दे संबंधी बीमारी से मौत के मुंह में चले जाते हैं। बीमारी के आखिरी चरण में डायलिसिस या गुर्दा प्रत्यारोपण का विकल्प बचता है जो बहुत खर्चीला है। यह कृत्रिम गुर्दा अपेक्षाकृत सस्ता होगा। उम्मीद है कि 2020 तक कृत्रिम गुर्दो की उपलब्धता बाजार में होगी।

गुर्दे (किडनी) के मरीजों को नया जीवन देने और डायलिसिस की पीड़ा को कम करने के लिए वैज्ञानिक अब कृत्रिम गुर्दे के विकास पर लगे हुए हैं। सब कुछ ठीक रहा तो घुटनों के प्रत्यारोपण की तरह कृत्रिम गुर्दा ट्रांसप्लांट जल्द शुरू होगा। तीन चरणों में बंटे इस प्रोजेक्ट में वैज्ञानिक दूसरे चरण में पहुंच गए हैं।

■ घुटनों के प्रत्यारोपण की तरह ट्रांसप्लांट होगा संभव
■ देश में दिन प्रतिदिन बढ़ रही मरीजों की संख्या

लखनऊ स्थित बाबा साहब भीम राव अंबेडकर विवि के प्राणि विज्ञान विभाग के प्रयोगशाला में कृत्रिम गुर्दे पर अध्ययन चल रहा है। अंबेडकर विवि के कुलपति प्रो.आरसी सोबती के अनुसार यह प्रयोग मृत जानवर (भैंस-बकरी) के शरीर के अंगों में किया जा रहा है। मनुष्य की जीवित कोशिकाओं को मृत जानवर के शरीर में प्रविष्ट कर उसे निर्धारित तापमान एवं अवधि …

वेटिंग टिकट कंफर्म होगा या नहीं बताएगा रेलवे, बुकिंग करते समय स्क्रीन पर ही आ जाएगा टिकट कंफर्म होगा या नहीं

ट्रेन का आरक्षित टिकट लेते समय वेटिंग मिलने पर सबसे बड़ी समस्या यह होती है कि यह कन्फर्म होगा या नहीं। इस परेशानी को दूर करने के लिए रेलवे व्यवस्था करने जा रहा है। इसके तहत आरक्षित टिकट लेते समय वेटिंग मिलने पर स्क्रीन पर यह भी दिखाया जाएगा कि सीट कन्फर्म होगी या नहीं। रेलवे बोर्ड ने इसके लिए सेंटर फॉर रेलवे इंफार्मेशन सिस्टम (क्रिस) को सॉफ्टवेयर तैयार करने के लिए कहा है।


■ बुकिंग करते समय स्क्रीन पर ही आ जाएगा टिकट कंफर्म होगा या नहीं
■ क्रिस को साफ्टवेयर तैयार करने के लिए कहा गया


ट्रेनों में बीच के स्टेशनों का सीट का कोटा होता है। उस स्टेशन से कोई यात्री टिकट नहीं लेता है तो वेटिंग वाले यात्रियों को बर्थ उपलब्ध करने का प्रावधान है। इसके अलावा कई अन्य श्रेणी का भी कोटा होता है। इसके भी फुल नहीं होने पर वेटिंग वाले यात्री को बर्थ दी जाती है। वीआइपी कोटा छोड़ दें तो अधिकांश श्रेणी के आरक्षित बर्थ खाली रहती हैं। यही कारण है कि भीड़ के समय भी स्लीपर में सौ वेटिंग तक होने के बाद भी सीट कन्फर्म हो जाता है। लेकिन समस्या टिकट लेते समय होती है। व्यक्ति वेटिंग टिकट ले तो लेता है लेकिन उसे यह आइ…