Skip to main content

मजदूरों को दस रुपये में मिलेगा दोपहर का खाना

लखनऊ : लंबे अर्से से प्रतीक्षारत मजदूरों को कार्यस्थल पर दोपहर का भोजन देने की योजना मार्च के अंतिम सप्ताह तक लागू होने की संभावना है। मजदूरों को दोपहर का भोजन देने का करार आईआरसीटीसी ने उप्र भवन और अन्य सन्निर्माण कर्मकार बोर्ड से किया है। पायलट प्रॉजेक्ट के रूप में यह योजना लखनऊ में चार कार्य स्थलों से शुरू होगी।  करार के तहत आईआरसीटीसी मजदूरों को भोजन के लिए दो मैन्यू देगा। दोपहर का यह भोजन उन्हीं मजदूरों को दिया जाएगा, जो बोर्ड में रजिस्टर्ड हैं।

खाने के दो मैन्यू :
करार के तहत मजदूरों के लिए भोजन के दो मैन्यू होंगे। एक में छह रोटी, दो सब्जी, गुड़, सलाद, अचार व मिर्च, जबकि दूसरे मैन्यू में दाल, चावल (400 ग्राम), गुड, सलाद, अचार और मिर्च होगी। एक दिन के भोजन के लिए मजदूर को दस रुपये देने होंगे, जबकि श्रम विभाग द्वारा संचालित कर्मकार बोर्ड 32 रुपये प्रति मजदूर आईआरसीटीसी को सबसिडी देगा। आईआरटीसीटी भोजन एल्युमिनियम पैक में देगी, लेकिन उनके वितरण, एक दिन पहले उसका मजदूर से पैसा जमा करवाना और कूड़े के डिस्पोजल की व्यवस्था कार्यदायी संस्था को करनी होगा। 

चार जगह से शुरुआत :
प्रमुख सचिव श्रम अनिता भटनागर जैन ने बताया कि अमौसी स्थित मैट्रो साइट, वृंदावन योजना की हिमालयन इन्क्लेव साइट, अवध बिहार साइट और विधान भवन के सामने नए सचिवालय की साइट से यह योजना शुरू होगी। मैट्रो साइड पर करीब एक हजार, हिमालयन इन्क्लेव में 200, अवध बिहार और नए सचिवालय साइड में 300-300 रजिस्टर्ड मजदूर हैं।

Popular posts from this blog

नए साल में फ्री कॉल, BSNL भी अपने उपभोक्ताओं के लिए शुरू करेगा सेवा

☀ 2G व 3G उपभोक्ताओं को भी मिलेगा योजना का लाभ
कॉल वार में बीएसएनल ने भी कूदने की तैयारी कर ली है। यानी भारत संचार निगम लिमिटेड उपभोक्ताओं को लुभाने के लिए नए साल में असीमित कॉल का तोहफा देगा। उपभोक्ताओं को डाटा रिचार्ज कराने पर फ्री कॉल की सुविधा दी जाएगी। इस योजना का लाभ टू जी व थ्री जी के उपभोक्ताओं को भी मिलेगा।


कंपनियों के बीच होड़ के चलते सस्ती कॉल के बाद उपभोक्ताओं को फ्री कॉल की सुविधा की दौड़ में बीएसएनएल भी शामिल होने जा रही है। मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस जियो ने अपने 4-जी उपभोक्ताओं को फ्री नेटवर्क के साथ ही फ्री कॉल की भी सुविधा प्रदान की है। इसके जवाब में बीएसएनएल ने लैंड लाइन पर 249 रुपये में अनलिमिटेड हाई स्पीड ब्रॉडबैंड की सुविधा उपलब्ध कराई। इसके अलावा रविवार को 24 घंटे और अन्य दिनों में रात 9 बजे से सुबह सात बजे तक फ्री कॉल की सुविधा मुहैया करा रहा है। इस सब के बाद भी इस सरकारी कंपनी के मोबाइल उपभोक्ता फ्री कॉल की सुविधा से वंचित थे।


बीएसएनएल के प्रबंध निदेशक अनुपम श्रीवास्तव ने पत्र के माध्यम से बताया कि विदेश की तर्ज पर नये साल में मोबाइल उपभोक्ताओं को भी फ्री कॉल…

वाट्सएप पर भेजे मैसेज अब वापस बुला सकेंगे, रीकॉल’ के नाम से मिलने वाली सुविधा में मैसेज को वापस बुलाने का विकल्प

सैन फ्रांसिस्को : वाट्सएप इस्तेमाल करने वालों के लिए एक अच्छी खबर है। मैसेजिंग एप जल्द ही भेजे गए मैसेज को वापस बुलाने का विकल्प देने जा रहा है। ‘रीकॉल’ के नाम से मिलने वाली इस सुविधा में यूजर को पांच मिनट तक किसी भी भेजे गए मैसेज को वापस लेने का मौका मिलेगा।



वाट्सएप या किसी भी मैसेजिंग एप पर कई बार गलती से किसी के लिए लिखा मैसेज दूसरे के नंबर पर चला जाता है। ऐसी स्थिति में पछताने के अलावा विकल्प नहीं बचता है। वाट्सएप पर आने वाले दिनों में इस मुश्किल का हल मिलने की उम्मीद है। वाट्सएप के नए फीचर जांचने वाली वेबसाइट ने इस बारे में जानकारी दी है।

पूरे मोहल्ले की रीडिंग ली जायेगी एक साथ, घर-घर जाकर मीटर की रीडिंग लेने के दिन लदने वाले

☀ पूरे मोहल्ले की मीटर रीडिंग एक ही जगह खड़े होकर लेने के लिए बिजली विभाग ने सॉफ्टवेयर लांच

घर-घर जाकर मीटर की रीडिंग लेने के दिन लदने वाले हैं। पूरे मोहल्ले की मीटर रीडिंग एक ही जगह खड़े होकर लेने के लिए बिजली विभाग ने सॉफ्टवेयर लांच किया है। नई तकनीक से लैस हैंडहेल्ड मशीन की रेडियो फ्रीक्वेंसी 200 मीटर के दायरे में जितने भी घर होंगे उनकी रीडिंग लेने में सक्षम होगी। मीटर रीडिंग के सॉफ्टवेयर में उपभोक्ताओं की कनेक्शन संख्या, आइडी व घर का पता लिंक किया जाएगा।



मशीन में दिए गए ऑप्शन में जाकर 200 मीटर के दायरे में जितने घर होंगे, उनकी कनेक्शन संख्या द्वारा हैंडहेल्ड मशीन की रेडियो फ्रीक्वेंसी अलग-अलग मीटर रीडिंग को पकड़ लेगी। इस रीडिंग को कर्मचारी दफ्तर जाकर कंप्यूटर में अपलोड कर देगा और बल्क में बिल प्रिंट हो जाएंगे। मीटर की रीडिंग डिस्पले समेत बिल पर प्रिंट होगी, जिसमें चाहकर भी कर्मचारी छेड़छाड़ नहीं कर सकता।

☀ लगाए जाएंगे नए स्मार्ट मीटर :
रेडियो फ्रीक्वेंसी से रीडिंग लेने के लिए घरों मे स्मार्ट मीटर लगाए जाएंगे। बिजली विभाग को एक हजार मीटर मिल गए हैं, जिन्हें पायलट प्रोजेक्ट के तौर प…