Skip to main content

घर बैठे पढ़ें 50 जिलों का इतिहास, उत्तर प्रदेश के 50 और उत्तराखंड के 08 जिलों का गजेटियर हुआ ऑनलाइन

  • घर बैठे पढ़ें 50 जिलों का इतिहास

आप अपने अथवा प्रदेश के किसी भी जिले का इतिहास, उसकी सीमाओं को जानना चाह रहे हैं। या फिर किसी प्रतियोगी परीक्षा के लिए आपको जिला स्तरीय आंकड़ों की जरूरत है। संबंधित जिले का गजेटियर आपको ढूढ़े नहीं मिल रहा है, तो इसके लिए परेशान होने की जरूरत नहीं है। 

 प्रदेश सरकार ने हाल ही में उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के 58 जिलों के गजेटियर को इंटरनेट पर उपलब्ध करा दिया है। जिन्हें आप घर बैठे ऑनलाइन पढ़ सकते हैं। अतीत की इस थाती को यदि आप सहेजना चाहते हैं, तो इसे डाउनलोड भी कर सकते हैं।  प्रदेश सरकार ने उत्तर प्रदेश के 50 और उत्तराखंड के 08 जिलों के गजेटियर को ऑनलाइन किया है। जिनमें से मेरठ का गजेटियर हिन्दी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में है। इसके अलावा गाजियाबाद, ललितपुर, कानपुर देहात और फिरोजाबाद जिलों के गजेटियर हिन्दी में व शेष जिलों के गजेटियर अंग्रेजी में हैं। उत्तराखंड के यह जिले ऑनलाइन जिस समय गजेटियर लिखे गए थे, उस समय उत्तराखंड के जिले उत्तर प्रदेश में थे। इनके गजेटियर को भी प्रदेश सरकार ने ऑनलाइन किया है। इनमें देहरादून, टिहरी गढ़वाल, उत्तरकाशी, चमोली, पिथौरागढ़, अल्मोड़ा, पौढ़ी गढ़वाल व नैनीताल शामिल हैं। 


किसी भी स्थान का परिचय देने वाला सबसे अहम दस्तावेज गजेटियर होता है। जिले, प्रदेश एवं देश की यह एक महत्वपूर्ण धरोहर है, जो अतीत की जानकारी देता है। गजेटियर में संबंधित जिले, प्रदेश व देश की सीमाओं के साथ ही वहां की सांख्यिकी एवं अन्य आवश्यक व महत्वपूर्ण आकड़ों की जानकारी होती है। इसके माध्यम से संबंधित जिला, प्रदेश व देश के भूगोल के साथ ही उसके इतिहास, जनसंख्या, साक्षरता दर, जीडीपी सहित तमाम जानकारियां प्राप्त की जा सकती है।ब्रिटिश सरकार ने वर्ष 1803 में अपने अधिकारियों से भारत के बारे में जानकारियां मांगीं, उस समय 69 वर्षों बाद वर्ष 1872 में यह जानकारियां जुटाई जा सकीं। उस समय अंग्रेजी वर्णमाला के क्रमानुसार जिलों के गजेटियर तैयार किए गए। जिसे इंपीरियल गजट ऑफ इंडिया का नाम दिया गया।

गजेटियर का सांस्कृतिक व सामाजिक महत्व होता है। यह भविष्य की दिशा तय करने में मददगार होता है। प्रशासक के लिए एक मार्गदर्शक तो विद्यार्थियों, शोधार्थियों, विदेश पर्यटकों के लिए सन्दर्भ ग्रंथ एवं विशेषज्ञों के लिए सूचना का महत्वपूर्ण संकलन हैं। श्रवस्ती, सोनभद्र, महराजनगर, कुशीनगर, महोबा, मऊ, कौशाम्बी, अंबेडकरनगर, संत कबीरनगर, महामाया नगर, चदौंली, सिद्धार्थनगर, ज्योतिबाफूले नगर, गौतमबुद्ध नगर के गजेटियर तैयार हो रहे हैं। ऑनलाइन गजेटियर पढ़ने के लिए आपको ( गजेटियर.यूपी.एनआइसी.इन ) वेबसाइट पर जाना होगा। जहां पर संबंधित जिले पर क्लिक कर आप उस जिले का गजेटियर पढ़ सकते हैं। 

Popular posts from this blog

खुशखबरी : अब बेसिक फ़ोन का 49 रुपये में कनेक्शन और रविवार को दिनभर मुफ्त बात

लैंड लाइन टेलीफोन की टिंग-टिंग को पुराना रुतबा दिलाने के लिए दूरसंचार विभाग सिर्फ 49 रुपये में इसका कनेक्शन देगा। विभाग को उम्मीद है कि इससे टिंग-टिंग के दिन बहुरेंगे। इतनी ही धनराशि जमाकर छह माह इसका लाभ लिया जा सकेगा। लैंडलाइन फोन पर अब रविवार को पूरे देश में किसी भी नेटवर्क पर असीमित निश्शुल्क बात की जा सकेगी। रात नौ से सुबह सात बजे तक यह सुविधा उपलब्ध थी। संचार राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) मनोज सिन्हा ने स्वतंत्रता दिवस के उपलक्ष्य में पैन इंडिया आधारित दो लैंड लाइन स्कीम समेत चार योजनाओं का लोकार्पण किया।

डीएलडब्ल्यू प्रेक्षागृह में दूरसंचार विभाग की ओर से आयोजित समारोह में उन्होंने पीएम के सांसद आदर्श ग्राम जयापुर व नागेपुर में वाई-फाई हॉट-स्पॉट सेवा का शुभारंभ किया। उन्होंने कहा कि पीएम के डिजिटल इंडिया की परिकल्पना के तहत मार्च 2017 तक एक लाख, 2018 तक ढाई लाख, 2019 तक देश का हर गांव इस सुविधा से जुड़ा होगा।संचार राज्यमंत्री ने कॉल ड्राप को समस्या मानते हुए भरोसा दिया कि चार माह में इसमें गुणात्मक सुधार दिखेगा।

नए साल में फ्री कॉल, BSNL भी अपने उपभोक्ताओं के लिए शुरू करेगा सेवा

☀ 2G व 3G उपभोक्ताओं को भी मिलेगा योजना का लाभ
कॉल वार में बीएसएनल ने भी कूदने की तैयारी कर ली है। यानी भारत संचार निगम लिमिटेड उपभोक्ताओं को लुभाने के लिए नए साल में असीमित कॉल का तोहफा देगा। उपभोक्ताओं को डाटा रिचार्ज कराने पर फ्री कॉल की सुविधा दी जाएगी। इस योजना का लाभ टू जी व थ्री जी के उपभोक्ताओं को भी मिलेगा।


कंपनियों के बीच होड़ के चलते सस्ती कॉल के बाद उपभोक्ताओं को फ्री कॉल की सुविधा की दौड़ में बीएसएनएल भी शामिल होने जा रही है। मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस जियो ने अपने 4-जी उपभोक्ताओं को फ्री नेटवर्क के साथ ही फ्री कॉल की भी सुविधा प्रदान की है। इसके जवाब में बीएसएनएल ने लैंड लाइन पर 249 रुपये में अनलिमिटेड हाई स्पीड ब्रॉडबैंड की सुविधा उपलब्ध कराई। इसके अलावा रविवार को 24 घंटे और अन्य दिनों में रात 9 बजे से सुबह सात बजे तक फ्री कॉल की सुविधा मुहैया करा रहा है। इस सब के बाद भी इस सरकारी कंपनी के मोबाइल उपभोक्ता फ्री कॉल की सुविधा से वंचित थे।


बीएसएनएल के प्रबंध निदेशक अनुपम श्रीवास्तव ने पत्र के माध्यम से बताया कि विदेश की तर्ज पर नये साल में मोबाइल उपभोक्ताओं को भी फ्री कॉल…

पूरे मोहल्ले की रीडिंग ली जायेगी एक साथ, घर-घर जाकर मीटर की रीडिंग लेने के दिन लदने वाले

☀ पूरे मोहल्ले की मीटर रीडिंग एक ही जगह खड़े होकर लेने के लिए बिजली विभाग ने सॉफ्टवेयर लांच

घर-घर जाकर मीटर की रीडिंग लेने के दिन लदने वाले हैं। पूरे मोहल्ले की मीटर रीडिंग एक ही जगह खड़े होकर लेने के लिए बिजली विभाग ने सॉफ्टवेयर लांच किया है। नई तकनीक से लैस हैंडहेल्ड मशीन की रेडियो फ्रीक्वेंसी 200 मीटर के दायरे में जितने भी घर होंगे उनकी रीडिंग लेने में सक्षम होगी। मीटर रीडिंग के सॉफ्टवेयर में उपभोक्ताओं की कनेक्शन संख्या, आइडी व घर का पता लिंक किया जाएगा।



मशीन में दिए गए ऑप्शन में जाकर 200 मीटर के दायरे में जितने घर होंगे, उनकी कनेक्शन संख्या द्वारा हैंडहेल्ड मशीन की रेडियो फ्रीक्वेंसी अलग-अलग मीटर रीडिंग को पकड़ लेगी। इस रीडिंग को कर्मचारी दफ्तर जाकर कंप्यूटर में अपलोड कर देगा और बल्क में बिल प्रिंट हो जाएंगे। मीटर की रीडिंग डिस्पले समेत बिल पर प्रिंट होगी, जिसमें चाहकर भी कर्मचारी छेड़छाड़ नहीं कर सकता।

☀ लगाए जाएंगे नए स्मार्ट मीटर :
रेडियो फ्रीक्वेंसी से रीडिंग लेने के लिए घरों मे स्मार्ट मीटर लगाए जाएंगे। बिजली विभाग को एक हजार मीटर मिल गए हैं, जिन्हें पायलट प्रोजेक्ट के तौर प…