Skip to main content

माइक्रोमैक्स के स्मार्टफोन यूरेका YU की बिक्री आज शुरू होगी : 8999 रुपए की कीमत में 4G फोन का बाजार में हल्ला

Micro-max Yu Yureka
  •     Dual Sim, 3G, Wi-Fi
  •     Octa Core, 1.5 GHz Processor
  •     2 GB RAM
  •     16 GB inbuilt memory
  •     5.5 inches, 1280 x 720 px display
  •     13 MP Camera with flash
  •     Memory Card Supported, upto 32 GB
  •     Android, v4.4

आज दो बजे से माइक्रोमैक्स के सायानोजेन मोड ऑपरेटिंग सिस्टम वाले स्मार्टफोन यूरेका YU की बिक्री शुरू होगी। ये फोन 8999 रुपए की कीमत में लॉन्च किया गया है। यह माइक्रोमैक्स का 4G फीचर और सायानोजेन मोड ऑपरेटिंग सिस्टम वाला पहला फोन है।

आज बिक्री के लिए केवल 10,000 हैंडसेट्स -
पहली फ्लैश सेल के लिए माइक्रोमैक्स ने सिर्फ 10000 हैंडसेट्स रखे हैं। इस फोन के रजिस्ट्रेशन 25 दिसबंर तक कराए जा चुके हैं। माइक्रोमैक्स के को-फाउंडर राहुल शर्मा का कहना है कि इस फोन के लिए 3 लाख से ज्यादा लोग रजिस्ट्रेशन करवा चुके हैं।



क्या हैं मुख्य फीचर्स 

* 64 बिट क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 615 ऑक्टा-कोर प्रोसेसर
* 4G हैंडसेट
* 5.5 इंच की HD डिस्प्ले स्क्रीन, 80 डिग्री के व्यूइंग एंगल के साथ
* गोरिल्ला ग्लास 3 प्रोटेक्शन ताकि स्क्रैच न लगे, तीन गुना स्क्रैच रेजिस्टेंट
* एडवांस कनेक्टिविटी
* LTE मोबाइल टीवी ब्रॉडकास्ट
* एड्रिनो 405 GPU
* 13 MP बैक और 5 MP का फ्रंट कैमरा

(64 बिट प्रोसेसर का मतलब है कि प्रोसेसर फोन में ज्यादा रैम, ज्यादा मेमोरी और बेहतर कैमरा फीचर्स सपोर्ट कर सकता है। 64 बिट प्रोसेसर के साथ फोन में बेहतर हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर फीचर्स दिए जा सकते हैं। इससे बेहतर बैटरी बैकअप भी मिलता है। बता दें कि आईफोन में भी 64 बिट प्रोसेसर मिलता है।)



क्या होता है CyanogenMod- CyanogenMod एक ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर है जो स्मार्टफोन्स और टैबलेट्स में इस्तेमाल किया जाता है। ये एंड्रॉइड प्लेटफॉर्म पर आधारित है। इस ऑपरेटिंग सिस्टम के ओपन सोर्स होने के कारण कंपनियां पहले से दिए गए फीचर्स के साथ कुछ नए फीचर्स भी जोड़ सकती हैं। इससे यूजर्स को यूटिलिटी आधारित फीचर्स ज्यादा मिलते हैं। माइक्रोमैक्स का ये फोन सायानोजेन OS11 वर्जन पर काम करता है। 


कैसे होते हैं फीचर्स-
इस ऑपरेटिंग सिस्टम को यूजर्स अपने हिसाब से कस्टमाइज कर सकते हैं। इसका मतलब बेसिक फीचर्स को भी अपनी सुविधा के अनुसार एडिट किया जा सकता है, जैसे कस्टमाइज थीम्स (बैकग्राउंड कलर), फॉन्ट साइज, ऐप्स यूटिलिटी, शॉर्टकट्स आदि को अपने हिसाब से बदला जा सकता है।

नया ब्रांड बनाने को लेकर राहुल शर्मा ने कहा कि ये यूजर्स के हिसाब से काम करने वाला है। इस फोन में जो सॉफ्टवेयर है, वो यूजर्स के हिसाब काम करेगा। प्रोसेसर, ऐप्स, गेम्स, टूलबार वगैरह सब अपने हिसाब से अपडेट किए जा सकते हैं। YU ब्रांड के अंतर्गत फोन नहीं, एक ईको सिस्टम बनाया गया है। इसमें यूजर्स अपने हिसाब से नियम बना सकता है। इस ब्रांड में दो खास चीजें हैं, एक कस्टमाइजेशन और दूसरी सर्विस।

कैमरा फीचर्स-
13 मेगापिक्सल के बैक कैमरा में सोनी का EXMOR सेंसर लगा हुआ है। ये कैमरा फुल एचडी वीडियो रिकॉर्डिंग सपोर्ट करता है। राहुल शर्मा के मुताबिक, कम रोशनी में भी ये कैमरा बहुत अच्छी पिक्चर क्वालिटी देता है। 

स्लो मोशन वीडियो-
60 फ्रेम्स प्रति सेकंड की दर से इस फोन में स्लो मोशन वीडियो रिकॉर्ड किए जा सकते हैं। ये तकनीक कम स्मार्टफोन्स में ही उपलब्ध होती है।



सेल्फी कैमरा-
इस डिवाइस में 5 मेगापिक्सल का सेल्फी और वीडियो कॉलिंग कैमरा दिया गया है। कंपनी के अनुसार, इस फोन में 71 डिग्री का वाइड एंगल है। इसका मतलब फोन के 71 डिग्री एंगल में जितने भी लोग होंगे, वो सेल्फी में आ जाएंगे। हालांकि, ये सैमसंग के 85 डिग्री कैमरा से कम है।

ब्लू फिल्टर-
ये लाइट को डेन्सिटी में बैलेंस करता है। इसका मतलब है कि अगर आप अपने कैमरा से फोटो लेंगे और कई तरफ से लाइट एक साथ आ रही है, तो भी कैमरा से ली गई फोटो खराब नहीं होगी।

 
मेमोरी और बैटरी- 
16 GB की इंटरनल मेमोरी के साथ इस फोन में 2GB रैम दी गई है, जो 64 बिट प्रोसेसर के साथ बेहतर मल्टीटास्किंग देगी।  

बैटरी परफॉर्मेंस-
ऑपरेटिंग सिस्टम के कारण इस फोन की बैटरी का परफॉर्मेंस बढ़ जाएगा। एंड्रॉइड के मुकाबले सायानोजेन में बैटरी परफॉर्मेंस ज्यादा अच्छा होता है। इसके कारण बैटरी बैकअप 25 प्रतिशत तक बढ़ जाता है। हार्डवेयर की बात करें तो इस फोन में 2500 mAh बैटरी है।

कंपनी के अनुसार बैटरी का टॉकटाइम-
4G LTE - 11 घंटे टॉकटाइम
3G 13 - घंटे टॉकटाइम
2G 15 - घंटे टॉकटाइम
वीडियो प्लेबैक - 6 घंटे टॉकटाइम

मूनस्टोन फिनिश-
माइक्रोमैक्स की तरफ से पहली बार मूनस्टोन फिनिश फीचर दी गई है। ये डिवाइस दिखने में बहुत स्टाइलिश है। इसके अलावा, फोन में हैंडक्राफ्ट किया गया लेदर बैक पैनल दिया गया है।



Popular posts from this blog

कृत्रिम गुर्दे दूर करेंगे डायलिसिस का दर्द, 2020 तक बाजार में होगा कृत्रिम गुर्दा

देश में 2.5 लाख लोग गुर्दे संबंधी बीमारी से मौत के मुंह में चले जाते हैं। बीमारी के आखिरी चरण में डायलिसिस या गुर्दा प्रत्यारोपण का विकल्प बचता है जो बहुत खर्चीला है। यह कृत्रिम गुर्दा अपेक्षाकृत सस्ता होगा। उम्मीद है कि 2020 तक कृत्रिम गुर्दो की उपलब्धता बाजार में होगी।

गुर्दे (किडनी) के मरीजों को नया जीवन देने और डायलिसिस की पीड़ा को कम करने के लिए वैज्ञानिक अब कृत्रिम गुर्दे के विकास पर लगे हुए हैं। सब कुछ ठीक रहा तो घुटनों के प्रत्यारोपण की तरह कृत्रिम गुर्दा ट्रांसप्लांट जल्द शुरू होगा। तीन चरणों में बंटे इस प्रोजेक्ट में वैज्ञानिक दूसरे चरण में पहुंच गए हैं।

■ घुटनों के प्रत्यारोपण की तरह ट्रांसप्लांट होगा संभव
■ देश में दिन प्रतिदिन बढ़ रही मरीजों की संख्या

लखनऊ स्थित बाबा साहब भीम राव अंबेडकर विवि के प्राणि विज्ञान विभाग के प्रयोगशाला में कृत्रिम गुर्दे पर अध्ययन चल रहा है। अंबेडकर विवि के कुलपति प्रो.आरसी सोबती के अनुसार यह प्रयोग मृत जानवर (भैंस-बकरी) के शरीर के अंगों में किया जा रहा है। मनुष्य की जीवित कोशिकाओं को मृत जानवर के शरीर में प्रविष्ट कर उसे निर्धारित तापमान एवं अवधि …

वाट्सएप पर भेजे मैसेज अब वापस बुला सकेंगे, रीकॉल’ के नाम से मिलने वाली सुविधा में मैसेज को वापस बुलाने का विकल्प

सैन फ्रांसिस्को : वाट्सएप इस्तेमाल करने वालों के लिए एक अच्छी खबर है। मैसेजिंग एप जल्द ही भेजे गए मैसेज को वापस बुलाने का विकल्प देने जा रहा है। ‘रीकॉल’ के नाम से मिलने वाली इस सुविधा में यूजर को पांच मिनट तक किसी भी भेजे गए मैसेज को वापस लेने का मौका मिलेगा।



वाट्सएप या किसी भी मैसेजिंग एप पर कई बार गलती से किसी के लिए लिखा मैसेज दूसरे के नंबर पर चला जाता है। ऐसी स्थिति में पछताने के अलावा विकल्प नहीं बचता है। वाट्सएप पर आने वाले दिनों में इस मुश्किल का हल मिलने की उम्मीद है। वाट्सएप के नए फीचर जांचने वाली वेबसाइट ने इस बारे में जानकारी दी है।

वेटिंग टिकट कंफर्म होगा या नहीं बताएगा रेलवे, बुकिंग करते समय स्क्रीन पर ही आ जाएगा टिकट कंफर्म होगा या नहीं

ट्रेन का आरक्षित टिकट लेते समय वेटिंग मिलने पर सबसे बड़ी समस्या यह होती है कि यह कन्फर्म होगा या नहीं। इस परेशानी को दूर करने के लिए रेलवे व्यवस्था करने जा रहा है। इसके तहत आरक्षित टिकट लेते समय वेटिंग मिलने पर स्क्रीन पर यह भी दिखाया जाएगा कि सीट कन्फर्म होगी या नहीं। रेलवे बोर्ड ने इसके लिए सेंटर फॉर रेलवे इंफार्मेशन सिस्टम (क्रिस) को सॉफ्टवेयर तैयार करने के लिए कहा है।


■ बुकिंग करते समय स्क्रीन पर ही आ जाएगा टिकट कंफर्म होगा या नहीं
■ क्रिस को साफ्टवेयर तैयार करने के लिए कहा गया


ट्रेनों में बीच के स्टेशनों का सीट का कोटा होता है। उस स्टेशन से कोई यात्री टिकट नहीं लेता है तो वेटिंग वाले यात्रियों को बर्थ उपलब्ध करने का प्रावधान है। इसके अलावा कई अन्य श्रेणी का भी कोटा होता है। इसके भी फुल नहीं होने पर वेटिंग वाले यात्री को बर्थ दी जाती है। वीआइपी कोटा छोड़ दें तो अधिकांश श्रेणी के आरक्षित बर्थ खाली रहती हैं। यही कारण है कि भीड़ के समय भी स्लीपर में सौ वेटिंग तक होने के बाद भी सीट कन्फर्म हो जाता है। लेकिन समस्या टिकट लेते समय होती है। व्यक्ति वेटिंग टिकट ले तो लेता है लेकिन उसे यह आइ…