Skip to main content

Posts

Showing posts from August 30, 2015

सभी मदरसों में फहराया जाए राष्ट्रीय ध्वज, हाई कोर्ट ने राज्य सरकार को दिया निर्देश, तीन सप्ताह में जवाब तलब

सभी मदरसों में फहराया जाए राष्ट्रीय ध्वज 15 अगस्त व 26 जनवरी को ध्वजारोहण न करने का मामलाहाई कोर्ट ने राज्य सरकार को दिया निर्देश, तीन सप्ताह में जवाब तलब
इलाहाबाद हाई कोर्ट ने प्रदेश सरकार को निर्देश दिया है कि 15 अगस्त और 26 जनवरी को सभी मदरसों में राष्ट्रीय ध्वज फहराना सुनिश्चित किया जाए। इस बारे में दाखिल जनहित याचिका पर कोर्ट ने राज्य सरकार से तीन सप्ताह में जवाब मांगा है। कोर्ट ने पूछा है कि क्या ध्वजारोहण के लिए शिक्षा विभाग में कोई गाइड लाइन है? मुख्य सचिव को इस मामले की निगरानी सौंपी गई है। याचिका की सुनवाई 22 सितंबर को होगी।


यह आदेश मुख्य न्यायाधीश डॉ. डीवाई चंद्रचूड़ तथा न्यायमूर्ति यशवंत वर्मा की खंडपीठ ने अलीगढ़ के निवासी अजीत गौड़ की जनहित याचिका पर दिया है। सुनवाई के दौरान राज्य सरकार की तरफ से जानकारी दी गई कि अलीगढ़ के मदरसों में राष्ट्र ध्वज फहराया जाता है। किताब से राष्ट्रगान पढ़ते हुए बच्चों का फोटो दिखाया गया। इस पर कोर्ट ने कहा कि प्रकरण केवल अलीगढ़ से ही संबंधित नहीं है। प्रदेश के हर मदरसे या स्कूलों में 15 अगस्त और 26 जनवरी को राष्ट्र ध्वज फहराया जाना चाहिए। को…

अब कुर्ता-पायजामा और सदरी में होगा दीक्षांत समारोह, छात्राओं के लिए सलवार सूट और कोटी का प्रस्ताव

कुर्ता-पायजामा और सदरी में होगा दीक्षांत समारोह
बीबीएयू बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर यूनिवर्सिटी के 2015 के दीक्षांत समारोह में गाउन की विदाई तय हो गई है। प्रधानमंत्री के सभी विश्वविद्यालयों को लिखे गए पत्र के बाद बीबीएयू ने खादी के कपड़ों में दीक्षांत समारोह कराने का फैसला किया है। कुलपति द्वारा बनाई गई हाई पॉवर कमिटी ने अवधी स्टाइल के कुर्ते-पायजामा और सदरी में दीक्षांत कराने का सुझाव दिया है। वहीं छात्राओं के लिए सलवार सूट और कोटी का प्रस्ताव दिया गया है। यूनिवर्सिटी के दीक्षांत में 2010 में आए पूर्व राष्ट्रपति कलाम ने पहली बार यहां गाउन की खिलाफत की थी। इसके बाद से दीक्षांत समारोह के परिधान के लिए हर वर्ष गाउन के स्थान पर किसी दूसरे परिधान के चुनाव के लिए कमिटी बनती रही है।


बीते वर्ष एकेडमिक काउंसिल ने गाउन को हटाने का फैसला किया था। हालांकि परिधान तय न हो पाने के चलते इस पर अमल नहीं हो पाया था। हालांकि 2015 के दीक्षांत में अवधी वेशभूषा तय करने का निर्णय मई में एकेडमिक काउंसिल में लिया गया था। अभी हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी विश्वविद्यालयों के कुलपतियों को पत्र ल…