Skip to main content

Posts

Showing posts from August 2, 2015

बार-बार KYC कराने के झंझट से मिलेगा छुटकारा, केवाईसी रिकॉर्ड सेंट्रल रजिस्ट्री में रखा जाएगा, जो इसी महीने तैयार हो रहा

बार-बार KYC कराने के झंझट से मिलेगा छुटकारा केवाईसी रिकॉर्ड सेंट्रल रजिस्ट्री में रखा जाएगा, जो इसी महीने तैयार हो रहा 
अब जल्द ही आपको हर फाइनेंशियल इकाई के साथ रिश्ता शुरू करने के साथ हर बार नो योर कस्टमर यानी KYC देने से मुक्ति मिल सकती है। KYC का एक बार वेरिफिकेशन हो जाने के बाद इसका झंझट दूर हो सकता है। आपका KYC रिकॉर्ड सेंट्रल रजिस्ट्री में रखा जाएगा, जो इसी महीने तैयार हो रहा है। फाइनेंस मिनिस्ट्री ने इस इकाई के लिए नोटिफिकेशन जारी कर दिया है और यह जल्द ही काम करने लगेगा। इससे फाइनेंशियल ट्रांजैक्शंस में कागजी कामों और लालफीताशाही कम हो सकेगी। 

फाइनेंस मिनिस्ट्री के एक सीनियर अधिकारी ने बताया, ‘बैंक, इंश्योरेंस कंपनियां, स्टॉक मार्केट समेत तमाम फाइनेंशियल इकाइयां इसके दायरे में आएंगी।’ मिसाल के तौर पर इस प्रक्रिया की शुरुआत बैंक के लिए किसी कस्टमर की तरफ से KYC के बारे मे ब्यौरा देने से शुरू होती है। बैंक इन डिटेल्स को रजिस्ट्री को सौंपेंगे, जो दस्तावेजों की पड़ताल कर KYC जांच का सर्टिफिकेट जारी करेगा। इसके बाद कहीं भी नया खाता खोले जाने पर इस प्रमाण को पेश किया जा सकता है। सा…

घर बैठे पढ़ें 50 जिलों का इतिहास, उत्तर प्रदेश के 50 और उत्तराखंड के 08 जिलों का गजेटियर हुआ ऑनलाइन

घर बैठे पढ़ें 50 जिलों का इतिहास
आप अपने अथवा प्रदेश के किसी भी जिले का इतिहास, उसकी सीमाओं को जानना चाह रहे हैं। या फिर किसी प्रतियोगी परीक्षा के लिए आपको जिला स्तरीय आंकड़ों की जरूरत है। संबंधित जिले का गजेटियर आपको ढूढ़े नहीं मिल रहा है, तो इसके लिए परेशान होने की जरूरत नहीं है। 
 प्रदेश सरकार ने हाल ही में उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के 58 जिलों के गजेटियर को इंटरनेट पर उपलब्ध करा दिया है। जिन्हें आप घर बैठे ऑनलाइन पढ़ सकते हैं। अतीत की इस थाती को यदि आप सहेजना चाहते हैं, तो इसे डाउनलोड भी कर सकते हैं।  प्रदेश सरकार ने उत्तर प्रदेश के 50 और उत्तराखंड के 08 जिलों के गजेटियर को ऑनलाइन किया है। जिनमें से मेरठ का गजेटियर हिन्दी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में है। इसके अलावा गाजियाबाद, ललितपुर, कानपुर देहात और फिरोजाबाद जिलों के गजेटियर हिन्दी में व शेष जिलों के गजेटियर अंग्रेजी में हैं। उत्तराखंड के यह जिले ऑनलाइन जिस समय गजेटियर लिखे गए थे, उस समय उत्तराखंड के जिले उत्तर प्रदेश में थे। इनके गजेटियर को भी प्रदेश सरकार ने ऑनलाइन किया है। इनमें देहरादून, टिहरी गढ़वाल, …