Skip to main content

Posts

Showing posts from April 12, 2015

शीशम की पत्तियां, जोड़ेंगी हड्डियां, वैज्ञानिकों ने तैयार की पहली हर्बल औषधि; पांच-छह माह में बाजार में उपलब्ध होगी दवा

शीशम की पत्तियां, जोड़ेंगी हड्डियां वैज्ञानिकों ने तैयार की पहली हर्बल औषधि पांच-छह माह में बाजार में उपलब्ध होगी दवा 
यूं तों ‘शीशम’ से ज्यादातर लोग परिचित होंगे, लेकिन बहुत कम लोग ही यह जानते होंगे कि इमारती लकड़ी के लिए मशहूर शीशम अब टूटी हुई हड्डी को सबसे तेज जोड़ने वाला पौधा भी बन गया है। जी हां, केंद्रीय औषधि अनुसंधान संस्थान (CDRI) के वैज्ञानिकों ने शीशम में हड्डी को जोड़ने वाले महत्वपूर्ण गुण की तलाश की है। 
संस्थान ने इसका लाइसेंस गुजरात की एक कंपनी की सौंप दिया है और उम्मीद जताई जा रही है कि अगले पांच-छह महीने में यह औषधि बाजार में उपलब्ध हो जाएगी। 1इंडोक्राइन विभाग की डॉ. रितु त्रिवेदी बताती हैं कि खास बात यह है कि जिस फ्रेक्शन को ‘रैपिड फ्रैक्चर हीलिंग एजेंट’ के रूप में प्रयोग किया गया है उसे शीशम की पत्तियों से प्राप्त किया गया है। 
डॉ. त्रिवेदी बताती हैं कि चूंकि पत्तियां ऐसा स्त्रोत  हैं, जो सीमित नहीं है इसलिए इसके निर्माण के लिए जरूरी कच्चे माल की कोई कमी नहीं होगी। डॉ.त्रिवेदी ने बताया कि मेडिसिनल केमिस्ट्री के डॉ.राकेश मौर्या के सहयोग से शोध किया गया।  

आधे समय में …

Soon, make deposits via any bank's cash machine : किसी भी बैंक से खाते में जमा कर सकेंगे पैसे

आरबीआई सभी नकद जमा मशीनों को एनएफएस से जोड़ेगा किसी भी बैंक से खाते में जमा कर सकेंगे पैसे ग्राहकों को किसी भी बैंक से पैसा डालने की देगा सुविधा
The Reserve Bank of India plans to connect all cash deposit machines to the National Financial Switch (NFS) to enable them to become interoperable and facilitate customers to deposit cash into their accounts from machine of any bank. 

“The ATMs are already part of the NFS and now there is a proposal from National Payments Corporation (NPCI) to link all cash depositing machines to the NFS,’’ said Harun R Khan, Deputy Governor at the Reserve Bank of India. “This will allow any other bank customers to put in money from any machine.’’ 
रिजर्व बैंक सभी नकद जमा करने वाली मशीनों को राष्ट्रीय वित्तीय स्विच (एनएफएस) से जोड़ने पर विचार कर रहा है। इससे सभी मशीनों का परस्पर संबंध हो सकेगा और ग्राहक किसी भी बैंक की मशीन से अपने बैंक खाते में पैसा जमा कर सकेंगे।


रिजर्व बैंक के डिप्टी गवर्नर एच. आर. खान ने गुरुवार को यहां कहा कि एटीएम पहले से एनएफएस का …

राष्ट्रपिता का सम्मान सामूहिक जिम्मेदारी, Artistic freedom can't be used for abusing Mahatma Gandhi: Supreme Court

राष्ट्रपिता का सम्मान सामूहिक जिम्मेदारीसुप्रीम कोर्ट ने की टिप्पणी
The Supreme Court on Thursday said artistic freedom of expression could not be misused to use abusive language against historical figures like Mahatma Gandhi and Subhash Chandra Bose. 

The court said it was no offence to criticize, lampoon and make parodies of the country's iconic figures but freedom of expression could not be stretched to allow a person to demean them by using obscene language, which was an offence under Section 292 of Indian Penal Code providing for a maximum jail term of two years. 

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को अपशब्द नहीं कहे जा सकते। न ही उनका चित्रण करते समय अभद्र शब्द इस्तेमाल किए जा सकते हैं। हम सबकी सामूहिक जिम्मेदारी है कि हम राष्ट्रपिता का सम्मान करें। ये टिप्पणियां बृहस्पतिवार को सुप्रीम कोर्ट ने मराठी कविता में राष्ट्रपिता के बारे में अभद्र भाषा का इस्तेमाल किए जाने के मामले में सुनवाई के दौरान की। 


फैसला सुरक्षित : न्यायमूर्ति दीपक मिश्र की अध्यक्षता वाली पीठ ने इस मामले में सभी पक्ष…

Google’s new keyboard lets you handwrite messages, supports 82 languages including Hindi

Google has launched a new handwriting keyboard for Android called the “Google Handwriting Input”. It will work on all the version of Android post the Ice Cream Sandwich and can be downloaded from the Google Play Store .The essence of this keyboard is that you can handwrite messages and the keyboard will convert it to text. The keyboard supports 82 languages, including Hindi. While keyboards support handwritten messages are not something new, it is a boon for languages which are complicated to be typed out in a keyboard.Google Handwriting Input is just like any keyboard and all you need to do is head to the Google Play Store download the application, set it as default and you will be ready to go. The Handwriting application registers both stylus and fingers.

बीएसएनएल के लैंडलाइन ग्राहकों के लिए खुशखबरी : 1 मई से देश भर में रात 9 से सुबह 7 बजे तक फोन कॉल मुफ्त में कर सकेंगे

बीएसएनएल के लैंडलाइन ग्राहकों के लिए खुशखबरी है। कंपनी ग्राहकों को एक बड़ी सौगात देने जा रही है। ग्राहकों की घटती संख्या से जूझ रही बीएसएनएल लैंडलाइन उपभोक्ताओं को अब 1 मई से देश के किसी भी राज्य में रात 9 से सुबह 7 बजे तक फोन कॉल मुफ्त में कर सकेंगे। कंपनी के कारपोरेट ऑफिस ने इस आशय का आदेश जारी किया है।

मोबाइल युग में अस्तित्व से जूझ रही बेसिक फोन सेवा के ‘उत्थान’ के लिए बीएसएनएल ने एक कोशिश और की है। उपभोक्ताओं को बिना किसी अतिरिक्त चार्ज के एक मई से रातभर फ्री में बात करने की सुविधा दी जा रही है। बात देशभर में किसी भी कंपनी के नंबर पर की जा सकती है। किराए के एवज में मिलने वाली फ्री कॉल में भी 14 फीसद की बढ़ोत्तरी भी हुई है। मोबाइल युग के साथ जब से इंटरनेट ने रफ्तार पकड़ी है, बेसिक फोन के साथ मोबाइल पर भी कॅाल करने वालों की संख्या घट गई है।  यह दीगर है कि हाईस्पीड ब्राडबैंड की चाह में बेसिक फोन की मांग बढ़ी है। जनवरी 2015 में देश भर में 2.50 करोड़ लैंडलाइन के कनेक्शन थे, जो 31 मार्च तक बढ़कर 2.80 करोड़ पहुंच गए हैं। फिर भी छह करोड़ लाइन खाली है। कनेक्शन बढ़ने के बाद भी कॉल करन…

ग्रामीण स्वास्थ्य को लेकर बिहार में हो रहे उत्साहजनक प्रयोग बने देश के लिए रोड मैप : बेहद कम खर्च में अच्छे नतीजे को आशा भरी नजरों से देखा जा रहा

स्वास्थ्य पैमानों पर फिसड्डी माने जाते रहे बिहार में इन दिनों कई उत्साहजनक प्रयोग हो रहे हैं। जच्चा - बच्चा की जिंदगी बचाने और उन्हें सेहतमंद बनाने के लिए की जा रही कवायदें, इनमें सबसे अहम हैं। इनकी खास बात यह है कि डॉक्टरों की भारी कमी से ये नर्स व कार्यकर्ताओं के कंधों पर चल रही हैं। बेहद कम खर्च में अच्छे नतीजे ला रहे इन नुस्खों को अब देश भर में आशा भरी नजरों से देखा जा रहा है। In low-income communities, many women and newborns die during pregnancy and childbirth from conditions that can be easily prevented using cost-effective interventions.
सरकारी कार्यक्रमों में डॉक्टरों की भारी कमी की वजह से देशभर में स्वास्थ्य कार्यक्रमों को लोगों तक पहुंचाने का भार मूल रूप से लगभग नौ लाख आशा, 12 लाख आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और दो लाख एएनएम पर है। लेकिन पर्याप्त मानदेय, प्रशिक्षण, संसाधन, प्रोन्नति, प्रोत्साहन आदि की कमी से अधिकांश राज्यों में इनकी कार्यक्षमता बहुत सीमित है। ऐसे में बिहार में पिछले कुछ सालों में इनकी कार्यक्षमता बढ़ाने पर ज्यादा ध्यान दिया गया है।  राज्य सरकार और अंतरराष्ट्रीय …

Knowledge Centre - Bombay Blood Groups, संजीवनी बना ‘बॉम्बे ब्लड ग्रुप’ : 10 हजार में से एक व्यक्ति में होता है यह ब्लड ग्रुप

The discovery of Bombay Blood Group was made more than 50 years ago with a patient who was admitted to KEM Hospital and required blood transfusions. A sample of blood was sent to the Blood Bank for grouping as is the usual practice. The red cells grouped like O group and hence O group blood was administered. The patient developed haemolytic transfusion reaction, and therefore transfusion had to be stopped. 
A detailed study of the patients blood revealed a rare genotype (blood group), which was neither ‘A’ nor ‘B’ nor ‘AB’ nor ‘O’. Since the first case was detected in Mumbai (then Bombay), the blood group came to be called as Bombay Blood Group. Blood from a Bombay Blood Group individual only should be transfused to a Bombay Blood Group patient. 
संजीवनी बना ‘बॉम्बे ब्लड ग्रुप’ राज्यभर के जरूरतमंदों को कराया जाता है उपलब्ध 10 हजार में से एक व्यक्ति में होता है यह ब्लड ग्रुप 
दुनिया भर में दुर्लभ माने जाने वाले ‘बॉम्बे ब्लड ग्रुप’ के सदस्यों ने झारखंड में अब तक कई लोगों की जान बचाई …

गर्भ में गणित व विज्ञान सीख रहे ‘अभिमन्यु’ : मां के पेट में ही बच्चों की कोचिंग शुरू

अब गर्भ में गणित व विज्ञान सीख रहे ‘अभिमन्यु’ कभी अर्जुन पुत्र अभिमन्यु ने गर्भ में चक्रव्यूह तोड़ने की कला सीखी थी, आज मां के पेट में ही बच्चों की कोचिंग शुरू हो गई है। वे गणित और विज्ञान सीख रहे हैं। गर्भवती महिलाओं के माध्यम से विशेषज्ञ गर्भस्थ शिशु को पढ़ा रहे हैं और अलग-अलग जानकारियां दे रहे हैं ताकि पैदा होते ही वह दूसरों से बेहतर हो। गर्भवती महिलाएं भी इसे लेकर उत्साहित हैं और सेंटर्स का सहारा ले रही हैं।

यह होती है प्रक्रिया : पढ़ने के लिए दिमाग-आंख के बीच तालमेल की जरूरत होती है। दिमाग की कोशिकाएं और आंखें गर्भ के तीसरे महीने तक विकसित हो चुकी होती हैं। यही कारण है कि गर्भकाल के तीसरे महीने से बच्चे के ‘विजुअल आइ पाथ वे’ को उत्प्रेरित किया जा सकता है। इस प्रक्रिया के तहत मां पेट पर हाथ रखकर बच्चे को शब्द लिखे हुए फ्लैश कार्ड और अलग-अलग नंबरों के डॉट कार्ड दिखाते हुए जोर से बात करते हुए उस कार्ड के बारे में बताती है। वास्तविक रूप में इसके जरिये बच्चे को कुछ सिखाया नहीं जाता बल्कि उसे शब्दों और नंबरों का एक्सपोजर दिया जाता है ताकि उसकी बुद्धि उत्प्रेरित हो।


बड़े अक्षर और आकर्…

बिना इंटर के अब स्नातक में इंट्री : हाईस्कूल के बाद सीधे स्नातक कर सकेंगे छात्र, विवि में शुरू होगा ब्रिज कोर्स

सहूलियत :  बिना इंटर के अब स्नातक में इंट्री हाईस्कूल के बाद सीधे स्नातक कर सकेंगे छात्र डॉ.शकुंतला मिश्र राष्ट्रीय विधि विवि में शुरू होगा ब्रिज कोर्स क्या आप हाईस्कूल पास हैं और स्नातक में प्रवेश लेना चाहते हैं, तो आपके लिए खुशखबरी है। बिना इंटर पास आपको स्नातक में इंट्री का मौका मिलेगा। आप यह पढ़कर हैरान हो रहे होंगे, लेकिन यही सच है। डॉ.शकुंतला मिश्र राष्ट्रीय पुनर्वास विश्वविद्यालय ‘साइन लैंग्वेज’ की शिक्षा लेने के इच्छुक छात्रों को यह सुविधा देने की तैयारी कर रहा है। 

विकलांगों को समाज की मुख्यधारा में लाने में लगे डॉ.शकुंतला मिश्र राष्ट्रीय पुनर्वास विश्वविद्यालय मूकबधिर छात्रों को गुणवत्तायुक्त शिक्षा देने में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहता। हाईस्कूल करने के बाद मूकबधिर छात्रों को आगे की पढ़ाई करने में परेशानी का सामना करना पड़ता है। इंटर में साइन लैंग्वेज (मूकबधिरों को इशारों से पढ़ाई जाने वाली भाषा) की पढ़ाई का इंतजाम न होने की वजह से ऐसे छात्रों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। उनकी परेशानी को दूर करने के लिए डॉ.शकुंतला मिश्र विवि ने दो साल का ब्रिज कोर्स शुरू करने का निर्णय ल…