Skip to main content

अब ‘बैलून नेट’ से बरसेगा इंटरनेट, बीएसएनएल गूगल के सहयोग से शुरू करेगा सेवा

📌 एक हजार बैलून छोड़े जाएंगे आकाश में, खत्म होंगे मोबाइल टावर

📌 कॉल ड्रॉप की समस्या से भी मिलेगा छुटकारा

घना जंगल हो या घनी आबादी वाला क्षेत्र, मोबाइल को भरपूर सिग्नल मिलेंगे, जिससे न सिर्फ बाधा रहित इंटरनेट चलेगा बल्कि कॉल ड्रॉप की समस्या भी समाप्त हो जाएगी। इसके लिए बीएसएनएल ने टावरों को हटाकर एक हजार बैलून आकाश में छोड़ने की शुरू कर दी है।

विश्व के कई विकसित देशों में जगह जगह पर लगे मोबाइल टावरों को हटाया जा रहा है। सेटेलाइट सिस्टम की तर्ज पर मोबाइल को सिग्नल उपलब्ध कराने के लिए आकाश में बैलून छोड़े जा रहे हैं। बैलून के अंदर मोबाइल को सिग्नल उपलब्ध कराने वाले उपकरण लगे होते हैं। यह उपकरण सौर उर्जा से संचालित होते हैं। एक बैलून से 30 से 40 किमी की दूरी तक मोबाइल को नेटवर्क उपलब्ध कराया जा सकता है तथा एक साथ एक लाख मोबाइल उपभोक्ता इंटरनेट चला सकते हैं व कॉल कर सकते हैं। हाईस्पीड से चलने वाले ब्रॉडबैंड सिस्टम से बैलून को जोड़ा जाता है। इसका नाम ‘बैलून नेट’ रखा गया है। इन्हें लगाने में गूगल बीएसएनएल को सहयोग करेगी।

फिलहाल, कंपनी एक हजार बैलून बीएसएनएल को उपलब्ध कराएगी। बैलून नेट स्थापित होने के बाद सेटेलाइट की तरह देश के हर कोने में मोबाइल को नेटवर्क उपलब्ध होगा। बैलून नेट स्थापित होने के बाद बिजली की खपत भी नहीं होगी।  बीएसएनएल के वरिष्ठ महाप्रबंधक रामशब्द यादव ने बताया कि बीएसएनएल ने गूगल के सहयोग से बैलून नेट सिस्टम शुरू करने की शुरू कर दी है। इसके लिए बैलून को कहां-कहां से ब्रॉडबैंड का कनेक्शन उपलब्ध कराया जा सकता है, इसकी जांच की जा रही है।

Popular posts from this blog

खुशखबरी : अब बेसिक फ़ोन का 49 रुपये में कनेक्शन और रविवार को दिनभर मुफ्त बात

लैंड लाइन टेलीफोन की टिंग-टिंग को पुराना रुतबा दिलाने के लिए दूरसंचार विभाग सिर्फ 49 रुपये में इसका कनेक्शन देगा। विभाग को उम्मीद है कि इससे टिंग-टिंग के दिन बहुरेंगे। इतनी ही धनराशि जमाकर छह माह इसका लाभ लिया जा सकेगा। लैंडलाइन फोन पर अब रविवार को पूरे देश में किसी भी नेटवर्क पर असीमित निश्शुल्क बात की जा सकेगी। रात नौ से सुबह सात बजे तक यह सुविधा उपलब्ध थी। संचार राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) मनोज सिन्हा ने स्वतंत्रता दिवस के उपलक्ष्य में पैन इंडिया आधारित दो लैंड लाइन स्कीम समेत चार योजनाओं का लोकार्पण किया।

डीएलडब्ल्यू प्रेक्षागृह में दूरसंचार विभाग की ओर से आयोजित समारोह में उन्होंने पीएम के सांसद आदर्श ग्राम जयापुर व नागेपुर में वाई-फाई हॉट-स्पॉट सेवा का शुभारंभ किया। उन्होंने कहा कि पीएम के डिजिटल इंडिया की परिकल्पना के तहत मार्च 2017 तक एक लाख, 2018 तक ढाई लाख, 2019 तक देश का हर गांव इस सुविधा से जुड़ा होगा।संचार राज्यमंत्री ने कॉल ड्राप को समस्या मानते हुए भरोसा दिया कि चार माह में इसमें गुणात्मक सुधार दिखेगा।

नए साल में फ्री कॉल, BSNL भी अपने उपभोक्ताओं के लिए शुरू करेगा सेवा

☀ 2G व 3G उपभोक्ताओं को भी मिलेगा योजना का लाभ
कॉल वार में बीएसएनल ने भी कूदने की तैयारी कर ली है। यानी भारत संचार निगम लिमिटेड उपभोक्ताओं को लुभाने के लिए नए साल में असीमित कॉल का तोहफा देगा। उपभोक्ताओं को डाटा रिचार्ज कराने पर फ्री कॉल की सुविधा दी जाएगी। इस योजना का लाभ टू जी व थ्री जी के उपभोक्ताओं को भी मिलेगा।


कंपनियों के बीच होड़ के चलते सस्ती कॉल के बाद उपभोक्ताओं को फ्री कॉल की सुविधा की दौड़ में बीएसएनएल भी शामिल होने जा रही है। मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस जियो ने अपने 4-जी उपभोक्ताओं को फ्री नेटवर्क के साथ ही फ्री कॉल की भी सुविधा प्रदान की है। इसके जवाब में बीएसएनएल ने लैंड लाइन पर 249 रुपये में अनलिमिटेड हाई स्पीड ब्रॉडबैंड की सुविधा उपलब्ध कराई। इसके अलावा रविवार को 24 घंटे और अन्य दिनों में रात 9 बजे से सुबह सात बजे तक फ्री कॉल की सुविधा मुहैया करा रहा है। इस सब के बाद भी इस सरकारी कंपनी के मोबाइल उपभोक्ता फ्री कॉल की सुविधा से वंचित थे।


बीएसएनएल के प्रबंध निदेशक अनुपम श्रीवास्तव ने पत्र के माध्यम से बताया कि विदेश की तर्ज पर नये साल में मोबाइल उपभोक्ताओं को भी फ्री कॉल…

पूरे मोहल्ले की रीडिंग ली जायेगी एक साथ, घर-घर जाकर मीटर की रीडिंग लेने के दिन लदने वाले

☀ पूरे मोहल्ले की मीटर रीडिंग एक ही जगह खड़े होकर लेने के लिए बिजली विभाग ने सॉफ्टवेयर लांच

घर-घर जाकर मीटर की रीडिंग लेने के दिन लदने वाले हैं। पूरे मोहल्ले की मीटर रीडिंग एक ही जगह खड़े होकर लेने के लिए बिजली विभाग ने सॉफ्टवेयर लांच किया है। नई तकनीक से लैस हैंडहेल्ड मशीन की रेडियो फ्रीक्वेंसी 200 मीटर के दायरे में जितने भी घर होंगे उनकी रीडिंग लेने में सक्षम होगी। मीटर रीडिंग के सॉफ्टवेयर में उपभोक्ताओं की कनेक्शन संख्या, आइडी व घर का पता लिंक किया जाएगा।



मशीन में दिए गए ऑप्शन में जाकर 200 मीटर के दायरे में जितने घर होंगे, उनकी कनेक्शन संख्या द्वारा हैंडहेल्ड मशीन की रेडियो फ्रीक्वेंसी अलग-अलग मीटर रीडिंग को पकड़ लेगी। इस रीडिंग को कर्मचारी दफ्तर जाकर कंप्यूटर में अपलोड कर देगा और बल्क में बिल प्रिंट हो जाएंगे। मीटर की रीडिंग डिस्पले समेत बिल पर प्रिंट होगी, जिसमें चाहकर भी कर्मचारी छेड़छाड़ नहीं कर सकता।

☀ लगाए जाएंगे नए स्मार्ट मीटर :
रेडियो फ्रीक्वेंसी से रीडिंग लेने के लिए घरों मे स्मार्ट मीटर लगाए जाएंगे। बिजली विभाग को एक हजार मीटर मिल गए हैं, जिन्हें पायलट प्रोजेक्ट के तौर प…