Skip to main content

अब ‘बैलून नेट’ से बरसेगा इंटरनेट, बीएसएनएल गूगल के सहयोग से शुरू करेगा सेवा

📌 एक हजार बैलून छोड़े जाएंगे आकाश में, खत्म होंगे मोबाइल टावर

📌 कॉल ड्रॉप की समस्या से भी मिलेगा छुटकारा

घना जंगल हो या घनी आबादी वाला क्षेत्र, मोबाइल को भरपूर सिग्नल मिलेंगे, जिससे न सिर्फ बाधा रहित इंटरनेट चलेगा बल्कि कॉल ड्रॉप की समस्या भी समाप्त हो जाएगी। इसके लिए बीएसएनएल ने टावरों को हटाकर एक हजार बैलून आकाश में छोड़ने की शुरू कर दी है।

विश्व के कई विकसित देशों में जगह जगह पर लगे मोबाइल टावरों को हटाया जा रहा है। सेटेलाइट सिस्टम की तर्ज पर मोबाइल को सिग्नल उपलब्ध कराने के लिए आकाश में बैलून छोड़े जा रहे हैं। बैलून के अंदर मोबाइल को सिग्नल उपलब्ध कराने वाले उपकरण लगे होते हैं। यह उपकरण सौर उर्जा से संचालित होते हैं। एक बैलून से 30 से 40 किमी की दूरी तक मोबाइल को नेटवर्क उपलब्ध कराया जा सकता है तथा एक साथ एक लाख मोबाइल उपभोक्ता इंटरनेट चला सकते हैं व कॉल कर सकते हैं। हाईस्पीड से चलने वाले ब्रॉडबैंड सिस्टम से बैलून को जोड़ा जाता है। इसका नाम ‘बैलून नेट’ रखा गया है। इन्हें लगाने में गूगल बीएसएनएल को सहयोग करेगी।

फिलहाल, कंपनी एक हजार बैलून बीएसएनएल को उपलब्ध कराएगी। बैलून नेट स्थापित होने के बाद सेटेलाइट की तरह देश के हर कोने में मोबाइल को नेटवर्क उपलब्ध होगा। बैलून नेट स्थापित होने के बाद बिजली की खपत भी नहीं होगी।  बीएसएनएल के वरिष्ठ महाप्रबंधक रामशब्द यादव ने बताया कि बीएसएनएल ने गूगल के सहयोग से बैलून नेट सिस्टम शुरू करने की शुरू कर दी है। इसके लिए बैलून को कहां-कहां से ब्रॉडबैंड का कनेक्शन उपलब्ध कराया जा सकता है, इसकी जांच की जा रही है।

Popular posts from this blog

कृत्रिम गुर्दे दूर करेंगे डायलिसिस का दर्द, 2020 तक बाजार में होगा कृत्रिम गुर्दा

देश में 2.5 लाख लोग गुर्दे संबंधी बीमारी से मौत के मुंह में चले जाते हैं। बीमारी के आखिरी चरण में डायलिसिस या गुर्दा प्रत्यारोपण का विकल्प बचता है जो बहुत खर्चीला है। यह कृत्रिम गुर्दा अपेक्षाकृत सस्ता होगा। उम्मीद है कि 2020 तक कृत्रिम गुर्दो की उपलब्धता बाजार में होगी।

गुर्दे (किडनी) के मरीजों को नया जीवन देने और डायलिसिस की पीड़ा को कम करने के लिए वैज्ञानिक अब कृत्रिम गुर्दे के विकास पर लगे हुए हैं। सब कुछ ठीक रहा तो घुटनों के प्रत्यारोपण की तरह कृत्रिम गुर्दा ट्रांसप्लांट जल्द शुरू होगा। तीन चरणों में बंटे इस प्रोजेक्ट में वैज्ञानिक दूसरे चरण में पहुंच गए हैं।

■ घुटनों के प्रत्यारोपण की तरह ट्रांसप्लांट होगा संभव
■ देश में दिन प्रतिदिन बढ़ रही मरीजों की संख्या

लखनऊ स्थित बाबा साहब भीम राव अंबेडकर विवि के प्राणि विज्ञान विभाग के प्रयोगशाला में कृत्रिम गुर्दे पर अध्ययन चल रहा है। अंबेडकर विवि के कुलपति प्रो.आरसी सोबती के अनुसार यह प्रयोग मृत जानवर (भैंस-बकरी) के शरीर के अंगों में किया जा रहा है। मनुष्य की जीवित कोशिकाओं को मृत जानवर के शरीर में प्रविष्ट कर उसे निर्धारित तापमान एवं अवधि …

वाट्सएप पर भेजे मैसेज अब वापस बुला सकेंगे, रीकॉल’ के नाम से मिलने वाली सुविधा में मैसेज को वापस बुलाने का विकल्प

सैन फ्रांसिस्को : वाट्सएप इस्तेमाल करने वालों के लिए एक अच्छी खबर है। मैसेजिंग एप जल्द ही भेजे गए मैसेज को वापस बुलाने का विकल्प देने जा रहा है। ‘रीकॉल’ के नाम से मिलने वाली इस सुविधा में यूजर को पांच मिनट तक किसी भी भेजे गए मैसेज को वापस लेने का मौका मिलेगा।



वाट्सएप या किसी भी मैसेजिंग एप पर कई बार गलती से किसी के लिए लिखा मैसेज दूसरे के नंबर पर चला जाता है। ऐसी स्थिति में पछताने के अलावा विकल्प नहीं बचता है। वाट्सएप पर आने वाले दिनों में इस मुश्किल का हल मिलने की उम्मीद है। वाट्सएप के नए फीचर जांचने वाली वेबसाइट ने इस बारे में जानकारी दी है।

वेटिंग टिकट कंफर्म होगा या नहीं बताएगा रेलवे, बुकिंग करते समय स्क्रीन पर ही आ जाएगा टिकट कंफर्म होगा या नहीं

ट्रेन का आरक्षित टिकट लेते समय वेटिंग मिलने पर सबसे बड़ी समस्या यह होती है कि यह कन्फर्म होगा या नहीं। इस परेशानी को दूर करने के लिए रेलवे व्यवस्था करने जा रहा है। इसके तहत आरक्षित टिकट लेते समय वेटिंग मिलने पर स्क्रीन पर यह भी दिखाया जाएगा कि सीट कन्फर्म होगी या नहीं। रेलवे बोर्ड ने इसके लिए सेंटर फॉर रेलवे इंफार्मेशन सिस्टम (क्रिस) को सॉफ्टवेयर तैयार करने के लिए कहा है।


■ बुकिंग करते समय स्क्रीन पर ही आ जाएगा टिकट कंफर्म होगा या नहीं
■ क्रिस को साफ्टवेयर तैयार करने के लिए कहा गया


ट्रेनों में बीच के स्टेशनों का सीट का कोटा होता है। उस स्टेशन से कोई यात्री टिकट नहीं लेता है तो वेटिंग वाले यात्रियों को बर्थ उपलब्ध करने का प्रावधान है। इसके अलावा कई अन्य श्रेणी का भी कोटा होता है। इसके भी फुल नहीं होने पर वेटिंग वाले यात्री को बर्थ दी जाती है। वीआइपी कोटा छोड़ दें तो अधिकांश श्रेणी के आरक्षित बर्थ खाली रहती हैं। यही कारण है कि भीड़ के समय भी स्लीपर में सौ वेटिंग तक होने के बाद भी सीट कन्फर्म हो जाता है। लेकिन समस्या टिकट लेते समय होती है। व्यक्ति वेटिंग टिकट ले तो लेता है लेकिन उसे यह आइ…