Skip to main content

अब रेल टिकट पर हो सकेगी चार धाम यात्रा, हरिद्वार अर्धकुंभ के मौके पर अगले साल होंगी यह यात्राएं

  • उत्तराखंड शासन के साथ हुआ करार

 IRCTC has signed an MoU with Uttarakhand Tourism Development Board (UTDB) for promotion of tourism in the hilly state, especially the launch of pilgrim packages for the next year's Ardh Kumbh Mela at Haridwar and projecting Uttarakhand as a Yoga destination.  

चार धाम यात्र में हवाई कंपनियों की बढ़ती सक्रियता को देखते हुए भारतीय रेलवे भी मैदान में उतर गया है। रेलवे चारधाम दर्शन के इच्छुक श्रद्धालुओं को पैकेज टूर उपलब्ध कराएगा। इसके तहत श्रद्धालु अपने रेल टिकट पर ही चारधाम (केदारनाथ, बद्रीनाथ, गंगोत्री व यमुनोत्री) यात्र कर पाएंगे। 1शुक्रवार को इंडियन रेलवे केटिरिंग एंड टूरिज्म कॉरपोरेशन लिमिटेड (आइआरसीटीसी) ने उत्तराखंड पर्यटन विकास परिषद के साथ इस आशय का समझौता किया। चार धाम में यात्रियों के उत्साह को देखते हुए अब रेलवे भी पीछे नहीं रहना चाहता। आइआरसीटीसी प्रदेश में तीर्थ यात्रओं की संभावनाओं को देखते हुए उत्तराखंड पर्यटन मंत्रलय के साथ मिलकर पैकेज टूर शुरू करेगा। टूर में रेल किराए के साथ पूरी यात्र का खर्च शामिल होगा। इसमें यात्री के रहने, खाने और पर्वतीय क्षेत्रों में बसों से परिवहन का खर्च भी शामिल है। रेल टिकट पर पूरी यात्र का विवरण दर्ज होगा। रेलवे की मदद से पर्यटन विभाग ज्यादा से ज्यादा पर्यटकों व तीर्थयात्रियों को उत्तराखंड आने का अवसर प्रदान करना चाहता है।


अगले साल हरिद्वार में होने वाले अर्धकुंभ के लिए भारतीय रेलवे खानपान व पर्यटन निगम (आइआरसीटीसी) स्पेशल पैकेज बनाएगा। इसे लेकर आइआरसीटीसी और उत्तराखंड शासन के अधिकारियों के बीच एक करार हो गया है।



आइआरसीटीसी के प्रबंधक जनसंपर्क संदीप दत्ता ने बताया कि बीती बुधवार को देहरादून के यूटीडीवी मुख्यालय में एक उच्च स्तरीय बैठक में उत्तराखंड में पर्यटन को बढ़ावा देने की आइआरसीटीसी की योजना के लिए सहमति पत्र पर हस्ताक्षर हुए हैं। आइआरसीटीसी उत्तराखंड को योग की दृष्टि से आकर्षण का केंद्र बनाने के अलावा 2016 में हरिद्वार में होने वाले अर्धकुंभ में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए चर्चा की गई। 


आइआरसीटीसी केदारनाथ, बद्रीनाथ, यमनोत्री और गंगोत्री की यात्र के पैकेज के साथ जिम कार्बेट नेशनल पार्क और राजाजी नेशनल पार्क में वन्य जंतु अभ्यारण्य के लिए भी पर्यटकों को आकर्षित करेगा। 

/fa-clock-o/ MONTHLY TRENDING$type=list

खुशखबरी : सरकार ने पीपीएफ,एनएससी, सुकन्या समेत अन्य छोटी बचत योजनाओं पर बढ़ाई ब्याज दरें

खुशखबरी : सरकार ने पीपीएफ,एनएससी, सुकन्या समेत अन्य छोटी बचत योजनाओं पर बढ़ाई ब्याज दरें
राष्ट्रीय बचत प्रमाणपत्र (एनएससी) व सार्वजनिक भविष्य निधि (पीपीएफ) समेत लघु बचत योजनाओं में निवेश करने वालोंं के लिए केंद्र सरकार अच्छी खबर लाई है। उसने इनमें ब्याज दर बढ़ाने का फैसला किया है।


केंद्र सरकार ने राष्ट्रीय बचत प्रमाणपत्र (एनएससी) और सार्वजनिक भविष्य निधि (पीपीएफ) समेत लघु बचत योजनाओं के लिए ब्याज दर अक्तूबर-दिसंबर तिमाही के लिए 0.4 प्रतिशत तक बढ़ा दी है।  लघु बचत योजनाओं के लिए ब्याज दरों को तिमाही के आधार पर संशोधित किया जाता है।



वित्तमंत्री ने जारी अधिसूचना में कहा कि वित्त वर्ष 2018-19 की तीसरी तिमाही के लिए विभिन्न लघु बचत योजनाओं की ब्याज दरें संशोधित की जाती हैं।  पांच वर्ष की सावधि जमा, आवर्ती जमा और वरिष्ठ नागरिक बचत योजना की ब्याज दरें बढ़ाकर क्रमश: 7.8 प्रतिशत, 7.3 प्रतिशत और 8.7 प्रतिशत कर दी गयी हैं।  हालांकि बचत जमा के लिए ब्याज दर चार प्रतिशत बरकरार है।

■ पीपीएफ और एनएससी पर मौजूदा 7.6 प्रतिशत की जगह अब आठ प्रतिशत की सालाना दर से ब्याज मिलेगा।■ किसान विकास पत्र पर अब 7.7 प्र…

अब रेलवे के इस एप से बुक कर सकेंगे अनारक्षित और प्लेटफार्म टिकट : आइये जाने कैसे?

यात्रियों को ट्रेन की जनरल टिकट यानि अनारक्षित टिकट के लिए अब लंबी लाइन में नहीं लगना पड़ेगा। ऑनलाइन रिजर्वेशन की तरह ही आप अपने मोबाइल फोन से जनरल टिकट भी बुक करा सकेंगे।

रेल में यात्रा करने वालों के लिए एक अच्छी खबर है। यात्रियों को ट्रेन की जनरल टिकट यानि अनारक्षित टिकट के लिए अब लंबी लाइन में नहीं लगना पड़ेगा। ऑनलाइन रिजर्वेशन की तरह ही आप अपने मोबाइल फोन से जनरल टिकट भी बुक करा सकेंगे।

इसके लिए उपयोगकर्ता को रेलवे द्वारा बनाए गए एप utsonmobile को डाउनलोड कर उसमें अपना रजिस्ट्रेशन करना होगा। इसके बाद रेलवे काउंटर से रिचार्ज करवाकर उससे वह टिकट खरीद सकता है। रेलवे ने मोबाइल फोन के जरिए अनारक्षित टिकट एवं प्लेटफार्म टिकट की बुकिंग को लेकर प्रेस रिलीज जारी कर यह जानकारी दी है।



एेसे करें एप डाउनलोड और टिकट बुकिंग

स्टेप-1
सबसे पहले यात्री को एप utsonmobile में अपना रजिस्ट्रेशन करना होगा। रजिस्ट्रेशन के दौरान यात्री से सम्बंधित सामान्य जानकारी मांगी जाएगी, जिसमें नाम, मोबाइल नंबर, शहर, अधिकतर यात्रा किए जाने वाला रूट, जन्म तिथि, परिचय पत्र के साथ रजिस्ट्रेशन होने के बाद यूजर का नाम तथा …

क्या है ERSS 112? अक्सर पूछे जाने योग्य प्रश्न

112 क्या है ? "112" संकट की स्थिति में डायल किया जाने वाली एक एकल आपातकालीन संख्या है जो अग्नि शमन ब्रिगेड, एक मेडिकल टीम या पुलिस से तत्काल सहायता प्राप्त करने के लिए भारत के सभी 36 राज्यों / केंद्रशासित प्रदेशों में 24 घंटे व सातो दिन कॉल की जा सकती है। आप एक स्थिर (लैंडलाइन) या मोबाइल फोन के साथ नंबर 112 पर कॉल कर सकते हैं। एकल आपातकालीन संख्या हर जगह मुफ़्त है।


112 ही क्यों? जब डायल 100 पहले से उपयोग में था? 112 एक विश्व स्तर पर मान्यता प्राप्त एकल आपातकालीन संख्या है, जो अधिकांश यूरोपीय देशों, राष्ट्रकुल देशो द्वारा अपनायी गयी है और संयुक्त राज्य अमेरिका और कनाडा में आपातकालीन संख्याओं से सम्बंधित की गयी है। अधिकांश निर्मित फोन हैंडसेट 112 संख्या के साथ प्री-प्रोग्राम (पहले से संयोजित ) होते हैं क्योंकि आपातकालीन संख्या एकल कुंजी (Key or Button ) दबाने के साथ डायल की जाती है। TRAI ने मई 2015 में भारत में एक आपातकालीन संख्या के उद्देश्य के लिए इस नंबर को आवंटित किया था।

112 एक आपात बटन (Panic Button) क्या है? और यह 112 से कैसे संबंधित है?
भारत सरकार द्वारा प्रकाशित राजपत्र के…