Skip to main content

गुमशुदा बच्चों को खोजने में मदद करेगी ‘खोया-पाया’ वेबसाइट, वेबसाइट पर गुमशुदा बच्चे की जानकारी व फोटो आसानी से होगी अपलोड

👉 गुमशुदा बच्चों को खोजने में मदद करेगी ‘खोया-पाया’ वेबसाइट

👉 केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने लॉन्च किया पोर्टल

👉 वेबसाइट पर गुमशुदा बच्चे की जानकारी व फोटो आसानी से होगी अपलोड

नई दिल्ली। गुमशुदा बच्चों को खोजने में पुलिस की मदद के साथ-साथ अब केंद्र सरकार की वेबसाइट भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी। गुमशुदा बच्चों की तलाश में आम जनता से मदद लेने के लिए मंगलवार को केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने नई वेबसाइट khoyapaya.gov.in को लॉन्च किया। देश में बच्चों की गुमशुदगी, तस्करी के मामलों से निपटने और उनकी तलाशी के प्रयास को बेहतर बनाने में इसे मील का पत्थर माना जा रहा है।

मेनका गांधी ने इस वेबसाइट को लांच करते हुए बताया कि यह साइट एक सार्वजनिक मंच होगा जहां किसी बच्चे के खोने की जानकारी, फोटो को आसानी से अपलोड किया जा सकेगा। उन्होंने कहा कि खोया-पाया ऐप को कोई भी व्यक्ति अपने मोबाइल पर मुफ्त डाउनलोड कर सकता है। जबकि इसे क्षेत्रीय भाषाओं में भी पेश किया जाएगा। उल्लेखनीय है कि देश में पहली बार गुमशुदा बच्चों की तलाश के लिए वेबसाइट लॉन्च करने का सुझाव खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिया था।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि बच्चों की गुमशुदगी और पाने के ब्यौरे पर संबंधित प्राधिकरण निगरानी रखेंगे। इस मौके पर संचार व सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर ने कहा कि वेबसाइट पर बच्चे के बारे में जानकारी देने के अलावा पुलिस को सूचना देना या एफआईआर कराना भी जरूरी होगा। सूत्रों की माने तो खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुमशुदा तलाश साइट का नाम खोया पाया रखा है। उन्होंने इस साइट को सोशल नेटवर्किंग साइट ट्विटर से जोड़ने की सलाह भी दी है।

सरकारी आंकड़ों के मुताबिक देश में प्रतिवर्ष करीब 70 हजार बच्चे गुमशुदा होते हैं। एनजीओ बचपन बचाओ आंदोलन के मुताबिक प्रति घंटे करीब 11 बच्चे गुमशुदा होते हैं और इसमें से करीब चार बच्चों का कभी पता नहीं चल पाता है।

Popular posts from this blog

खुशखबरी : अब बेसिक फ़ोन का 49 रुपये में कनेक्शन और रविवार को दिनभर मुफ्त बात

लैंड लाइन टेलीफोन की टिंग-टिंग को पुराना रुतबा दिलाने के लिए दूरसंचार विभाग सिर्फ 49 रुपये में इसका कनेक्शन देगा। विभाग को उम्मीद है कि इससे टिंग-टिंग के दिन बहुरेंगे। इतनी ही धनराशि जमाकर छह माह इसका लाभ लिया जा सकेगा। लैंडलाइन फोन पर अब रविवार को पूरे देश में किसी भी नेटवर्क पर असीमित निश्शुल्क बात की जा सकेगी। रात नौ से सुबह सात बजे तक यह सुविधा उपलब्ध थी। संचार राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) मनोज सिन्हा ने स्वतंत्रता दिवस के उपलक्ष्य में पैन इंडिया आधारित दो लैंड लाइन स्कीम समेत चार योजनाओं का लोकार्पण किया।

डीएलडब्ल्यू प्रेक्षागृह में दूरसंचार विभाग की ओर से आयोजित समारोह में उन्होंने पीएम के सांसद आदर्श ग्राम जयापुर व नागेपुर में वाई-फाई हॉट-स्पॉट सेवा का शुभारंभ किया। उन्होंने कहा कि पीएम के डिजिटल इंडिया की परिकल्पना के तहत मार्च 2017 तक एक लाख, 2018 तक ढाई लाख, 2019 तक देश का हर गांव इस सुविधा से जुड़ा होगा।संचार राज्यमंत्री ने कॉल ड्राप को समस्या मानते हुए भरोसा दिया कि चार माह में इसमें गुणात्मक सुधार दिखेगा।

नए साल में फ्री कॉल, BSNL भी अपने उपभोक्ताओं के लिए शुरू करेगा सेवा

☀ 2G व 3G उपभोक्ताओं को भी मिलेगा योजना का लाभ
कॉल वार में बीएसएनल ने भी कूदने की तैयारी कर ली है। यानी भारत संचार निगम लिमिटेड उपभोक्ताओं को लुभाने के लिए नए साल में असीमित कॉल का तोहफा देगा। उपभोक्ताओं को डाटा रिचार्ज कराने पर फ्री कॉल की सुविधा दी जाएगी। इस योजना का लाभ टू जी व थ्री जी के उपभोक्ताओं को भी मिलेगा।


कंपनियों के बीच होड़ के चलते सस्ती कॉल के बाद उपभोक्ताओं को फ्री कॉल की सुविधा की दौड़ में बीएसएनएल भी शामिल होने जा रही है। मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस जियो ने अपने 4-जी उपभोक्ताओं को फ्री नेटवर्क के साथ ही फ्री कॉल की भी सुविधा प्रदान की है। इसके जवाब में बीएसएनएल ने लैंड लाइन पर 249 रुपये में अनलिमिटेड हाई स्पीड ब्रॉडबैंड की सुविधा उपलब्ध कराई। इसके अलावा रविवार को 24 घंटे और अन्य दिनों में रात 9 बजे से सुबह सात बजे तक फ्री कॉल की सुविधा मुहैया करा रहा है। इस सब के बाद भी इस सरकारी कंपनी के मोबाइल उपभोक्ता फ्री कॉल की सुविधा से वंचित थे।


बीएसएनएल के प्रबंध निदेशक अनुपम श्रीवास्तव ने पत्र के माध्यम से बताया कि विदेश की तर्ज पर नये साल में मोबाइल उपभोक्ताओं को भी फ्री कॉल…

पूरे मोहल्ले की रीडिंग ली जायेगी एक साथ, घर-घर जाकर मीटर की रीडिंग लेने के दिन लदने वाले

☀ पूरे मोहल्ले की मीटर रीडिंग एक ही जगह खड़े होकर लेने के लिए बिजली विभाग ने सॉफ्टवेयर लांच

घर-घर जाकर मीटर की रीडिंग लेने के दिन लदने वाले हैं। पूरे मोहल्ले की मीटर रीडिंग एक ही जगह खड़े होकर लेने के लिए बिजली विभाग ने सॉफ्टवेयर लांच किया है। नई तकनीक से लैस हैंडहेल्ड मशीन की रेडियो फ्रीक्वेंसी 200 मीटर के दायरे में जितने भी घर होंगे उनकी रीडिंग लेने में सक्षम होगी। मीटर रीडिंग के सॉफ्टवेयर में उपभोक्ताओं की कनेक्शन संख्या, आइडी व घर का पता लिंक किया जाएगा।



मशीन में दिए गए ऑप्शन में जाकर 200 मीटर के दायरे में जितने घर होंगे, उनकी कनेक्शन संख्या द्वारा हैंडहेल्ड मशीन की रेडियो फ्रीक्वेंसी अलग-अलग मीटर रीडिंग को पकड़ लेगी। इस रीडिंग को कर्मचारी दफ्तर जाकर कंप्यूटर में अपलोड कर देगा और बल्क में बिल प्रिंट हो जाएंगे। मीटर की रीडिंग डिस्पले समेत बिल पर प्रिंट होगी, जिसमें चाहकर भी कर्मचारी छेड़छाड़ नहीं कर सकता।

☀ लगाए जाएंगे नए स्मार्ट मीटर :
रेडियो फ्रीक्वेंसी से रीडिंग लेने के लिए घरों मे स्मार्ट मीटर लगाए जाएंगे। बिजली विभाग को एक हजार मीटर मिल गए हैं, जिन्हें पायलट प्रोजेक्ट के तौर प…