Skip to main content

बाबुओं और अफसरों से मिलने के लिए अब रोजाना चक्कर नहीं काटने होंगे, निर्धारित समय पर घर बैठे अपॉइंटमेंट मिलेगा

Welcome To MyVisit
  • Visitor management simplified for visitors and departments ,
  • No Queues , No Delays and No Frustrated Visitors

Features
  • Simple signup process
  • To set up a new account your first visit registration data is recorded , further you only need to provide e-mail , mobile no or Aaadhar no.

Dashboard Reports
  • All daily visits to the departments are shown in a optimized way that shows all visits information

Visitor automation
  • The system facilitates each department and officers to easily manage their own visitors individually, by pre approving or rejecting them. 

केंद्र सरकार के दफ्तरों में बाबुओं और अफसरों से मिलने के लिए अब रोजाना चक्कर नहीं काटने होंगे। चाहे मंत्रलय हो या विभाग, सभी को निर्धारित समय पर घर बैठे अपॉइंटमेंट मिलेगा। मुलाकात के लिए तय समय की जानकारी ई-मेल या एसएमएस के जरिए दी जाएगी।

केंद्रीय सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रलय के विभाग (डिपार्टमेंट ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स एंड इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी) ने किसी जरूरतमंद को सरकारी बाबुओं-अफसरों से मिलने के लिए आसान हल निकाला है। इसकी शुरुआत राजधानी में स्थित केंद्रीय मंत्रलयों के 75 विभागों में की गई है। आने वाले समय में देशभर में केंद्र के सभी विभाग के दफ्तर को इसमें शामिल किया जाएगा। साथ ही आम जनता को यह सुविधा मुहैया कराने का सुझाव राज्य सरकारों को भी दिया जाएगा। फिलहाल, विभिन्न मंत्रलयों के 75 विभागों में ऑनलाइन अपॉइंटमेंट की सुविधा शुरू की है। इसके लिए http://evisitors.nic.in/public/Home.aspx  पर जाकर एक क्लिक करना होगा। जवाब में आपके ई-मेल या एसएमएस पर तय समय पर मिलने का समय दिया जाएगा।
एक अधिकारी के मुताबिक, यह आवेदन कोई भी कर सकता है। इसके लिए सबसे पहले वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन करके आवेदक को खुद से जुड़ी जानकारी मुहैया करानी होगी। आवेदक को न्यू विजिटर पर क्लिक करके अपना नाम, पता, आईडी कार्ड और जिस मंत्रलय या विभाग के अधिकारी से मिलना है, उसका नाम और वजह भी स्पष्ट करनी होगी। साथ ही आवेदक अपनी ओर से भी मिलने की तारीख व समय लिख सकता है। हालांकि, दिए समय पर मिलना अधिकारी के व्यस्त नहीं होने पर ही संभव होगा। आवेदक के पास पहुंचने वाले ई-मेल या एसएमएस में एक नंबर मुहैया कराया जाएगा। आवेदक को यह संबंधित विभाग में रिसेप्शन पर देना होगा। यहां आवेदक का फोटो लेकर पास दिया जाएगा। एक बार रजिस्ट्रेशन करा चुके आवेदक को दोबारा प्रक्रिया की जरूरत न होगी।

Popular posts from this blog

कृत्रिम गुर्दे दूर करेंगे डायलिसिस का दर्द, 2020 तक बाजार में होगा कृत्रिम गुर्दा

देश में 2.5 लाख लोग गुर्दे संबंधी बीमारी से मौत के मुंह में चले जाते हैं। बीमारी के आखिरी चरण में डायलिसिस या गुर्दा प्रत्यारोपण का विकल्प बचता है जो बहुत खर्चीला है। यह कृत्रिम गुर्दा अपेक्षाकृत सस्ता होगा। उम्मीद है कि 2020 तक कृत्रिम गुर्दो की उपलब्धता बाजार में होगी।

गुर्दे (किडनी) के मरीजों को नया जीवन देने और डायलिसिस की पीड़ा को कम करने के लिए वैज्ञानिक अब कृत्रिम गुर्दे के विकास पर लगे हुए हैं। सब कुछ ठीक रहा तो घुटनों के प्रत्यारोपण की तरह कृत्रिम गुर्दा ट्रांसप्लांट जल्द शुरू होगा। तीन चरणों में बंटे इस प्रोजेक्ट में वैज्ञानिक दूसरे चरण में पहुंच गए हैं।

■ घुटनों के प्रत्यारोपण की तरह ट्रांसप्लांट होगा संभव
■ देश में दिन प्रतिदिन बढ़ रही मरीजों की संख्या

लखनऊ स्थित बाबा साहब भीम राव अंबेडकर विवि के प्राणि विज्ञान विभाग के प्रयोगशाला में कृत्रिम गुर्दे पर अध्ययन चल रहा है। अंबेडकर विवि के कुलपति प्रो.आरसी सोबती के अनुसार यह प्रयोग मृत जानवर (भैंस-बकरी) के शरीर के अंगों में किया जा रहा है। मनुष्य की जीवित कोशिकाओं को मृत जानवर के शरीर में प्रविष्ट कर उसे निर्धारित तापमान एवं अवधि …

वाट्सएप पर भेजे मैसेज अब वापस बुला सकेंगे, रीकॉल’ के नाम से मिलने वाली सुविधा में मैसेज को वापस बुलाने का विकल्प

सैन फ्रांसिस्को : वाट्सएप इस्तेमाल करने वालों के लिए एक अच्छी खबर है। मैसेजिंग एप जल्द ही भेजे गए मैसेज को वापस बुलाने का विकल्प देने जा रहा है। ‘रीकॉल’ के नाम से मिलने वाली इस सुविधा में यूजर को पांच मिनट तक किसी भी भेजे गए मैसेज को वापस लेने का मौका मिलेगा।



वाट्सएप या किसी भी मैसेजिंग एप पर कई बार गलती से किसी के लिए लिखा मैसेज दूसरे के नंबर पर चला जाता है। ऐसी स्थिति में पछताने के अलावा विकल्प नहीं बचता है। वाट्सएप पर आने वाले दिनों में इस मुश्किल का हल मिलने की उम्मीद है। वाट्सएप के नए फीचर जांचने वाली वेबसाइट ने इस बारे में जानकारी दी है।

वेटिंग टिकट कंफर्म होगा या नहीं बताएगा रेलवे, बुकिंग करते समय स्क्रीन पर ही आ जाएगा टिकट कंफर्म होगा या नहीं

ट्रेन का आरक्षित टिकट लेते समय वेटिंग मिलने पर सबसे बड़ी समस्या यह होती है कि यह कन्फर्म होगा या नहीं। इस परेशानी को दूर करने के लिए रेलवे व्यवस्था करने जा रहा है। इसके तहत आरक्षित टिकट लेते समय वेटिंग मिलने पर स्क्रीन पर यह भी दिखाया जाएगा कि सीट कन्फर्म होगी या नहीं। रेलवे बोर्ड ने इसके लिए सेंटर फॉर रेलवे इंफार्मेशन सिस्टम (क्रिस) को सॉफ्टवेयर तैयार करने के लिए कहा है।


■ बुकिंग करते समय स्क्रीन पर ही आ जाएगा टिकट कंफर्म होगा या नहीं
■ क्रिस को साफ्टवेयर तैयार करने के लिए कहा गया


ट्रेनों में बीच के स्टेशनों का सीट का कोटा होता है। उस स्टेशन से कोई यात्री टिकट नहीं लेता है तो वेटिंग वाले यात्रियों को बर्थ उपलब्ध करने का प्रावधान है। इसके अलावा कई अन्य श्रेणी का भी कोटा होता है। इसके भी फुल नहीं होने पर वेटिंग वाले यात्री को बर्थ दी जाती है। वीआइपी कोटा छोड़ दें तो अधिकांश श्रेणी के आरक्षित बर्थ खाली रहती हैं। यही कारण है कि भीड़ के समय भी स्लीपर में सौ वेटिंग तक होने के बाद भी सीट कन्फर्म हो जाता है। लेकिन समस्या टिकट लेते समय होती है। व्यक्ति वेटिंग टिकट ले तो लेता है लेकिन उसे यह आइ…