Skip to main content

बनारस में गंगा की लहरों पर अनूठी पाठशाला, मानसरोवर घाट पर बच्चों को पढ़ाई-लिखाई से जोड़ने की बोटिंग पाठशाला

  • बनारस में गंगा की लहरों पर अनूठी पाठशाला 
  • काशी के मानसरोवर घाट पर बजड़े पर कुछ यूं होती है बच्चों की पढ़ाई

वाराणसी बनारस के घाटों पर एक तरफ गंगा आरती तो उसी समय दूसरी तरफ गंगा की लहरों पर चलती है अनूठी पाठशाला। विदेशियों के पीछे हाथ फैलाए दौड़ते या फिर चुंबक डाल गंगा की तलहटी से पैसा निकालने को भटकते गरीब बच्चों की तैरते बजड़े पर चलने वाली पाठशाला किसी शहरी स्कूल से कम नहीं है। यहां टीचर, ब्लैक बोर्ड, कापी- किताब ही नहीं कंप्यूटर - टीवी और लाइब्रेरी की सुविधा भी है।

मानसरोवर घाट पर है पाठशाला बनारस आने वाले सैलानी जब शाम के समय घाटों पर गंगा आरती देखने में तल्लीन रहते हैं, उस समय मानसरोवर घाट पर बोटिंग पाठशाला का समय शुरू होता है। बच्चों को उन्हीं के माहौल में पढ़ाई-लिखाई से जोड़ने की मुहिम सामाजिक संस्था ‘गुडि़या’ की है। संस्था के अध्यक्ष अजीत सिंह के मुताबिक इसके लिए खासतौर पर लिए गए बजड़े पर रोजाना तीन घंटे क्लास चलती है। बजड़े के ऊपरी हिस्से में मोटिवेशन और काउंसिलिंग सेंटर है, वहीं नीचे क्लास रूम और कंप्यूटर सेंटर बनाया गया है। मिड डे मिल की तर्ज पर बच्चों को बिस्किट-टॉफी बांटी जाती है। स्कूल जाने लायक तैयार करने की कोशिश इस स्कूल में 70 बच्चे रजिस्टर्ड हैं। इनके कॉपी-किताब की व्यवस्था संस्था ही करती है। टीचर अमित संतोष और मंजू बच्चों जोड़ घटाना और अमित व उमाशंकर नशे से दूर रहने को जागरूक करने संग कंप्यूटर चलाना सीखाते हैं।



टीचरों के मुताबिक कोशिश की बच्चे स्कूलों में जाकर पढ़ने लायक तैयार हो जाएं। प्रतिभावान बच्चों के नाम स्कूलों में लिखाने की व्यवस्था भी की गई है। दुनिया के लोग देखेंगे टाटा कैपिटल ने इस पाठशाला पर शार्ट फिल्म बनाकर ऑनलाइन कैंपेन की तैयारी की है। पाठशाला को और आधुनिक बनाने में टाटा सहयोग देगा। म्यूजिक क्लास शुरु करने की योजना है।

Popular posts from this blog

कृत्रिम गुर्दे दूर करेंगे डायलिसिस का दर्द, 2020 तक बाजार में होगा कृत्रिम गुर्दा

देश में 2.5 लाख लोग गुर्दे संबंधी बीमारी से मौत के मुंह में चले जाते हैं। बीमारी के आखिरी चरण में डायलिसिस या गुर्दा प्रत्यारोपण का विकल्प बचता है जो बहुत खर्चीला है। यह कृत्रिम गुर्दा अपेक्षाकृत सस्ता होगा। उम्मीद है कि 2020 तक कृत्रिम गुर्दो की उपलब्धता बाजार में होगी।

गुर्दे (किडनी) के मरीजों को नया जीवन देने और डायलिसिस की पीड़ा को कम करने के लिए वैज्ञानिक अब कृत्रिम गुर्दे के विकास पर लगे हुए हैं। सब कुछ ठीक रहा तो घुटनों के प्रत्यारोपण की तरह कृत्रिम गुर्दा ट्रांसप्लांट जल्द शुरू होगा। तीन चरणों में बंटे इस प्रोजेक्ट में वैज्ञानिक दूसरे चरण में पहुंच गए हैं।

■ घुटनों के प्रत्यारोपण की तरह ट्रांसप्लांट होगा संभव
■ देश में दिन प्रतिदिन बढ़ रही मरीजों की संख्या

लखनऊ स्थित बाबा साहब भीम राव अंबेडकर विवि के प्राणि विज्ञान विभाग के प्रयोगशाला में कृत्रिम गुर्दे पर अध्ययन चल रहा है। अंबेडकर विवि के कुलपति प्रो.आरसी सोबती के अनुसार यह प्रयोग मृत जानवर (भैंस-बकरी) के शरीर के अंगों में किया जा रहा है। मनुष्य की जीवित कोशिकाओं को मृत जानवर के शरीर में प्रविष्ट कर उसे निर्धारित तापमान एवं अवधि …

वाट्सएप पर भेजे मैसेज अब वापस बुला सकेंगे, रीकॉल’ के नाम से मिलने वाली सुविधा में मैसेज को वापस बुलाने का विकल्प

सैन फ्रांसिस्को : वाट्सएप इस्तेमाल करने वालों के लिए एक अच्छी खबर है। मैसेजिंग एप जल्द ही भेजे गए मैसेज को वापस बुलाने का विकल्प देने जा रहा है। ‘रीकॉल’ के नाम से मिलने वाली इस सुविधा में यूजर को पांच मिनट तक किसी भी भेजे गए मैसेज को वापस लेने का मौका मिलेगा।



वाट्सएप या किसी भी मैसेजिंग एप पर कई बार गलती से किसी के लिए लिखा मैसेज दूसरे के नंबर पर चला जाता है। ऐसी स्थिति में पछताने के अलावा विकल्प नहीं बचता है। वाट्सएप पर आने वाले दिनों में इस मुश्किल का हल मिलने की उम्मीद है। वाट्सएप के नए फीचर जांचने वाली वेबसाइट ने इस बारे में जानकारी दी है।

वेटिंग टिकट कंफर्म होगा या नहीं बताएगा रेलवे, बुकिंग करते समय स्क्रीन पर ही आ जाएगा टिकट कंफर्म होगा या नहीं

ट्रेन का आरक्षित टिकट लेते समय वेटिंग मिलने पर सबसे बड़ी समस्या यह होती है कि यह कन्फर्म होगा या नहीं। इस परेशानी को दूर करने के लिए रेलवे व्यवस्था करने जा रहा है। इसके तहत आरक्षित टिकट लेते समय वेटिंग मिलने पर स्क्रीन पर यह भी दिखाया जाएगा कि सीट कन्फर्म होगी या नहीं। रेलवे बोर्ड ने इसके लिए सेंटर फॉर रेलवे इंफार्मेशन सिस्टम (क्रिस) को सॉफ्टवेयर तैयार करने के लिए कहा है।


■ बुकिंग करते समय स्क्रीन पर ही आ जाएगा टिकट कंफर्म होगा या नहीं
■ क्रिस को साफ्टवेयर तैयार करने के लिए कहा गया


ट्रेनों में बीच के स्टेशनों का सीट का कोटा होता है। उस स्टेशन से कोई यात्री टिकट नहीं लेता है तो वेटिंग वाले यात्रियों को बर्थ उपलब्ध करने का प्रावधान है। इसके अलावा कई अन्य श्रेणी का भी कोटा होता है। इसके भी फुल नहीं होने पर वेटिंग वाले यात्री को बर्थ दी जाती है। वीआइपी कोटा छोड़ दें तो अधिकांश श्रेणी के आरक्षित बर्थ खाली रहती हैं। यही कारण है कि भीड़ के समय भी स्लीपर में सौ वेटिंग तक होने के बाद भी सीट कन्फर्म हो जाता है। लेकिन समस्या टिकट लेते समय होती है। व्यक्ति वेटिंग टिकट ले तो लेता है लेकिन उसे यह आइ…