Skip to main content

TRAI reduces ceiling tariffs for national roaming : एक मई से रोमिंग कॉल और एसएमएस सस्ते होंगे

Mobile phone calling charges could drop by 20% and messaging rates by 75% when users travel outside home circles after the telecom regulator cut the maximum chargeable rates for roaming services effective May 1. The Telecom Regulatory Authority of India's decision on Thursday,
  • एक मई से रोमिंग कॉल और एसएमएस सस्ते होंगे 
  • रोमिंग में कॉल करना 80 पैसा और रिसीव करना 45 पैसा  की दर 
  • एसएमएस शुल्क में भी 75% की कटौती हुई

वर्तमान में रोमिंग के दौरान टेलीकॉम कंपनियां एसएमएस के बदले उपभोक्ताओं से प्रति एसएमएस एक रुपये तक का शुल्क ले सकती है। एक मई से रोमिंग के दौरान एसएमएस की अधिकतम दर 25 पैसे प्रति एसएमएस रह जाएगी। सर्किल बदलने या लंबी दूरी के रोमिंग पर एक मई से एक एसएमएस करने पर अधिकतम 38 पैसे का भुगतान करना होगा। अभी यह दर 1.50 रुपये है। 

अधिकतम दरों से ज्यादा शुल्क नहीं ले सकती कंपनियां कोई भी टेलीकॉम कंपनी एक मई से ट्राई की तरफ से जारी अधिकतम दरों से अधिक शुल्क नहीं ले सकती है। कंपनियों को एक मई से पहले अपनी-अपनी दरों को जारी करने के लिए कहा गया है। इससे पहले वर्ष 2013 में रोमिंग कॉल की दरों में बदलाव किया गया था।


एक मई से मोबाइल उपभोक्ताओं को रोमिंग कॉल व एसएमएस के लिए पहले के मुकाबले कम कीमत चुकानी होगी। भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) ने इस संबंध में सभी टेलीकॉम सर्विस कंपनियों को अपनी दरों में बदलाव करने के लिए कहा है। ट्राई की तरफ से जारी दरों के मुताबिक अब कोई भी टेलीकॉम कंपनी अपने सर्किल में रोमिंग में रहने के दौरान कॉल करने पर 80 पैसे प्रति मिनट से अधिक का चार्ज नहीं कर सकती है। अभी रोमिंग में रहने पर कॉल करने पर कंपनी एक रुपये प्रति मिनट तक का चार्ज कर सकती है। टेलीकॉम सर्विस एरिया में बदलाव होने पर लंबी दूरी की रोमिंग कॉल पर एक मई से अधिकतम 1.15 रुपये प्रति मिनट का शुल्क लिया जा सकता है। फिलहाल यह शुल्क अधिकतम 1.50 रुपये प्रति मिनट का है। रोमिंंग के दौरान इनकमिंग कॉल के बदले टेलीकॉम कंपनियां एक मई से अधिकतम 45 पैसे प्रति मिनट का शुल्क ले सकती है। अभी यह दर अधिकतम 75 पैसे प्रति मिनट है।

Popular posts from this blog

अब रेलवे के इस एप से बुक कर सकेंगे अनारक्षित और प्लेटफार्म टिकट : आइये जाने कैसे?

यात्रियों को ट्रेन की जनरल टिकट यानि अनारक्षित टिकट के लिए अब लंबी लाइन में नहीं लगना पड़ेगा। ऑनलाइन रिजर्वेशन की तरह ही आप अपने मोबाइल फोन से जनरल टिकट भी बुक करा सकेंगे।

रेल में यात्रा करने वालों के लिए एक अच्छी खबर है। यात्रियों को ट्रेन की जनरल टिकट यानि अनारक्षित टिकट के लिए अब लंबी लाइन में नहीं लगना पड़ेगा। ऑनलाइन रिजर्वेशन की तरह ही आप अपने मोबाइल फोन से जनरल टिकट भी बुक करा सकेंगे।

इसके लिए उपयोगकर्ता को रेलवे द्वारा बनाए गए एप utsonmobile को डाउनलोड कर उसमें अपना रजिस्ट्रेशन करना होगा। इसके बाद रेलवे काउंटर से रिचार्ज करवाकर उससे वह टिकट खरीद सकता है। रेलवे ने मोबाइल फोन के जरिए अनारक्षित टिकट एवं प्लेटफार्म टिकट की बुकिंग को लेकर प्रेस रिलीज जारी कर यह जानकारी दी है।



एेसे करें एप डाउनलोड और टिकट बुकिंग

स्टेप-1
सबसे पहले यात्री को एप utsonmobile में अपना रजिस्ट्रेशन करना होगा। रजिस्ट्रेशन के दौरान यात्री से सम्बंधित सामान्य जानकारी मांगी जाएगी, जिसमें नाम, मोबाइल नंबर, शहर, अधिकतर यात्रा किए जाने वाला रूट, जन्म तिथि, परिचय पत्र के साथ रजिस्ट्रेशन होने के बाद यूजर का नाम तथा …

कृत्रिम गुर्दे दूर करेंगे डायलिसिस का दर्द, 2020 तक बाजार में होगा कृत्रिम गुर्दा

देश में 2.5 लाख लोग गुर्दे संबंधी बीमारी से मौत के मुंह में चले जाते हैं। बीमारी के आखिरी चरण में डायलिसिस या गुर्दा प्रत्यारोपण का विकल्प बचता है जो बहुत खर्चीला है। यह कृत्रिम गुर्दा अपेक्षाकृत सस्ता होगा। उम्मीद है कि 2020 तक कृत्रिम गुर्दो की उपलब्धता बाजार में होगी।

गुर्दे (किडनी) के मरीजों को नया जीवन देने और डायलिसिस की पीड़ा को कम करने के लिए वैज्ञानिक अब कृत्रिम गुर्दे के विकास पर लगे हुए हैं। सब कुछ ठीक रहा तो घुटनों के प्रत्यारोपण की तरह कृत्रिम गुर्दा ट्रांसप्लांट जल्द शुरू होगा। तीन चरणों में बंटे इस प्रोजेक्ट में वैज्ञानिक दूसरे चरण में पहुंच गए हैं।

■ घुटनों के प्रत्यारोपण की तरह ट्रांसप्लांट होगा संभव
■ देश में दिन प्रतिदिन बढ़ रही मरीजों की संख्या

लखनऊ स्थित बाबा साहब भीम राव अंबेडकर विवि के प्राणि विज्ञान विभाग के प्रयोगशाला में कृत्रिम गुर्दे पर अध्ययन चल रहा है। अंबेडकर विवि के कुलपति प्रो.आरसी सोबती के अनुसार यह प्रयोग मृत जानवर (भैंस-बकरी) के शरीर के अंगों में किया जा रहा है। मनुष्य की जीवित कोशिकाओं को मृत जानवर के शरीर में प्रविष्ट कर उसे निर्धारित तापमान एवं अवधि …

वेटिंग टिकट कंफर्म होगा या नहीं बताएगा रेलवे, बुकिंग करते समय स्क्रीन पर ही आ जाएगा टिकट कंफर्म होगा या नहीं

ट्रेन का आरक्षित टिकट लेते समय वेटिंग मिलने पर सबसे बड़ी समस्या यह होती है कि यह कन्फर्म होगा या नहीं। इस परेशानी को दूर करने के लिए रेलवे व्यवस्था करने जा रहा है। इसके तहत आरक्षित टिकट लेते समय वेटिंग मिलने पर स्क्रीन पर यह भी दिखाया जाएगा कि सीट कन्फर्म होगी या नहीं। रेलवे बोर्ड ने इसके लिए सेंटर फॉर रेलवे इंफार्मेशन सिस्टम (क्रिस) को सॉफ्टवेयर तैयार करने के लिए कहा है।


■ बुकिंग करते समय स्क्रीन पर ही आ जाएगा टिकट कंफर्म होगा या नहीं
■ क्रिस को साफ्टवेयर तैयार करने के लिए कहा गया


ट्रेनों में बीच के स्टेशनों का सीट का कोटा होता है। उस स्टेशन से कोई यात्री टिकट नहीं लेता है तो वेटिंग वाले यात्रियों को बर्थ उपलब्ध करने का प्रावधान है। इसके अलावा कई अन्य श्रेणी का भी कोटा होता है। इसके भी फुल नहीं होने पर वेटिंग वाले यात्री को बर्थ दी जाती है। वीआइपी कोटा छोड़ दें तो अधिकांश श्रेणी के आरक्षित बर्थ खाली रहती हैं। यही कारण है कि भीड़ के समय भी स्लीपर में सौ वेटिंग तक होने के बाद भी सीट कन्फर्म हो जाता है। लेकिन समस्या टिकट लेते समय होती है। व्यक्ति वेटिंग टिकट ले तो लेता है लेकिन उसे यह आइ…