Skip to main content

Muslim girl in Mumbai wins Gita contest : पुरस्कार जीतकर धार्मिक सौहार्द्र और विविधता में एकता की नई मिसाल कायम की मरियम सिद्दीकी

Twelve-year-old Maryam Siddiqui has aced a written competition based on the Bhagwad Gita. The Muslim girl has won the first position among over 3,000 participants at the 'Gita Champions League' contest, organized by International Society for Krishna Consciousness (Iskcon) in January.

The 100 mark multiple choice question based test, evaluates children on their knowledge of the Gita. "I have always been inquisitive about religions and I often read up on them during my free time. So when my teacher told me about this contest I thought it would be a good chance to understand what the book is about. My parents too supported my idea of participating in the contest," said Maryam, who received the prize on March 15.

मुस्लिम छात्र मरियम सिद्दीकी ने अंतरविद्यालयी भगवद्गीता प्रतियोगिता में प्रथम पुरस्कार जीतकर धार्मिक सौहार्द्र और विविधता में एकता की नई मिसाल कायम की है। मुंबई की मरियम ने यह उपलब्धि ऐसे वक्त हासिल की है, जब कुछ राज्यों में भगवद्गीता पढ़ाए जाने को अनिवार्य बनाया जा रहा है। मुंबई की कास्मोपॉलिटन हाईस्कूल की कक्षा छह की 12 वर्षीय छात्र मरियम ने श्लोकों की सही व्याख्या कर गीता चैंपियन लीग का खिताब जीता। इंटरनेशनल सोसायटी फॉर कृष्णा कांसियसनेस (इस्कान) द्वारा आयोजित प्रतियोगिता में करीब तीन हजार छात्र-छात्रओं ने हिस्सा लिया था। 

कांग्रेस नेता मीम अफजल और एनसीपी नेता तारिक अनवर ने मरियम की प्रशंसा करते हुए कहा है कि इससे साबित होता है कि एक धर्मनिरपेक्ष देश में किस प्रकार हम दूसरे धर्म की अच्छी बातों को कैसे सीखकर अमल में ला सकते हैं। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भगवद्गीता प्रतियोगिता में पहला पुरस्कार जीतने वाली मुस्लिम छात्र मरियम सिद्दीकी को सम्मानित करने का ऐलान किया है।

गौरतलब है कि हरियाणा ने हाल ही में भगवद्गीता को स्कूली पाठ्यक्रम का हिस्सा बनाया है। इससे पहले विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने दिसंबर 2014 में आह्वान किया था कि गीता को देश का राष्ट्रीय ग्रंथ घोषित किया जाना चाहिए। हालांकि विपक्षी पार्टियों और दूसरे धर्म के लोगों ने इस पर कड़ा ऐतराज जताया था।

Popular posts from this blog

अब रेलवे के इस एप से बुक कर सकेंगे अनारक्षित और प्लेटफार्म टिकट : आइये जाने कैसे?

यात्रियों को ट्रेन की जनरल टिकट यानि अनारक्षित टिकट के लिए अब लंबी लाइन में नहीं लगना पड़ेगा। ऑनलाइन रिजर्वेशन की तरह ही आप अपने मोबाइल फोन से जनरल टिकट भी बुक करा सकेंगे।

रेल में यात्रा करने वालों के लिए एक अच्छी खबर है। यात्रियों को ट्रेन की जनरल टिकट यानि अनारक्षित टिकट के लिए अब लंबी लाइन में नहीं लगना पड़ेगा। ऑनलाइन रिजर्वेशन की तरह ही आप अपने मोबाइल फोन से जनरल टिकट भी बुक करा सकेंगे।

इसके लिए उपयोगकर्ता को रेलवे द्वारा बनाए गए एप utsonmobile को डाउनलोड कर उसमें अपना रजिस्ट्रेशन करना होगा। इसके बाद रेलवे काउंटर से रिचार्ज करवाकर उससे वह टिकट खरीद सकता है। रेलवे ने मोबाइल फोन के जरिए अनारक्षित टिकट एवं प्लेटफार्म टिकट की बुकिंग को लेकर प्रेस रिलीज जारी कर यह जानकारी दी है।



एेसे करें एप डाउनलोड और टिकट बुकिंग

स्टेप-1
सबसे पहले यात्री को एप utsonmobile में अपना रजिस्ट्रेशन करना होगा। रजिस्ट्रेशन के दौरान यात्री से सम्बंधित सामान्य जानकारी मांगी जाएगी, जिसमें नाम, मोबाइल नंबर, शहर, अधिकतर यात्रा किए जाने वाला रूट, जन्म तिथि, परिचय पत्र के साथ रजिस्ट्रेशन होने के बाद यूजर का नाम तथा …

कृत्रिम गुर्दे दूर करेंगे डायलिसिस का दर्द, 2020 तक बाजार में होगा कृत्रिम गुर्दा

देश में 2.5 लाख लोग गुर्दे संबंधी बीमारी से मौत के मुंह में चले जाते हैं। बीमारी के आखिरी चरण में डायलिसिस या गुर्दा प्रत्यारोपण का विकल्प बचता है जो बहुत खर्चीला है। यह कृत्रिम गुर्दा अपेक्षाकृत सस्ता होगा। उम्मीद है कि 2020 तक कृत्रिम गुर्दो की उपलब्धता बाजार में होगी।

गुर्दे (किडनी) के मरीजों को नया जीवन देने और डायलिसिस की पीड़ा को कम करने के लिए वैज्ञानिक अब कृत्रिम गुर्दे के विकास पर लगे हुए हैं। सब कुछ ठीक रहा तो घुटनों के प्रत्यारोपण की तरह कृत्रिम गुर्दा ट्रांसप्लांट जल्द शुरू होगा। तीन चरणों में बंटे इस प्रोजेक्ट में वैज्ञानिक दूसरे चरण में पहुंच गए हैं।

■ घुटनों के प्रत्यारोपण की तरह ट्रांसप्लांट होगा संभव
■ देश में दिन प्रतिदिन बढ़ रही मरीजों की संख्या

लखनऊ स्थित बाबा साहब भीम राव अंबेडकर विवि के प्राणि विज्ञान विभाग के प्रयोगशाला में कृत्रिम गुर्दे पर अध्ययन चल रहा है। अंबेडकर विवि के कुलपति प्रो.आरसी सोबती के अनुसार यह प्रयोग मृत जानवर (भैंस-बकरी) के शरीर के अंगों में किया जा रहा है। मनुष्य की जीवित कोशिकाओं को मृत जानवर के शरीर में प्रविष्ट कर उसे निर्धारित तापमान एवं अवधि …

वेटिंग टिकट कंफर्म होगा या नहीं बताएगा रेलवे, बुकिंग करते समय स्क्रीन पर ही आ जाएगा टिकट कंफर्म होगा या नहीं

ट्रेन का आरक्षित टिकट लेते समय वेटिंग मिलने पर सबसे बड़ी समस्या यह होती है कि यह कन्फर्म होगा या नहीं। इस परेशानी को दूर करने के लिए रेलवे व्यवस्था करने जा रहा है। इसके तहत आरक्षित टिकट लेते समय वेटिंग मिलने पर स्क्रीन पर यह भी दिखाया जाएगा कि सीट कन्फर्म होगी या नहीं। रेलवे बोर्ड ने इसके लिए सेंटर फॉर रेलवे इंफार्मेशन सिस्टम (क्रिस) को सॉफ्टवेयर तैयार करने के लिए कहा है।


■ बुकिंग करते समय स्क्रीन पर ही आ जाएगा टिकट कंफर्म होगा या नहीं
■ क्रिस को साफ्टवेयर तैयार करने के लिए कहा गया


ट्रेनों में बीच के स्टेशनों का सीट का कोटा होता है। उस स्टेशन से कोई यात्री टिकट नहीं लेता है तो वेटिंग वाले यात्रियों को बर्थ उपलब्ध करने का प्रावधान है। इसके अलावा कई अन्य श्रेणी का भी कोटा होता है। इसके भी फुल नहीं होने पर वेटिंग वाले यात्री को बर्थ दी जाती है। वीआइपी कोटा छोड़ दें तो अधिकांश श्रेणी के आरक्षित बर्थ खाली रहती हैं। यही कारण है कि भीड़ के समय भी स्लीपर में सौ वेटिंग तक होने के बाद भी सीट कन्फर्म हो जाता है। लेकिन समस्या टिकट लेते समय होती है। व्यक्ति वेटिंग टिकट ले तो लेता है लेकिन उसे यह आइ…