Skip to main content

बिना इंटर के अब स्नातक में इंट्री : हाईस्कूल के बाद सीधे स्नातक कर सकेंगे छात्र, विवि में शुरू होगा ब्रिज कोर्स

सहूलियत : 
  • बिना इंटर के अब स्नातक में इंट्री 
  • हाईस्कूल के बाद सीधे स्नातक कर सकेंगे छात्र 
  • डॉ.शकुंतला मिश्र राष्ट्रीय विधि विवि में शुरू होगा ब्रिज कोर्स
क्या आप हाईस्कूल पास हैं और स्नातक में प्रवेश लेना चाहते हैं, तो आपके लिए खुशखबरी है। बिना इंटर पास आपको स्नातक में इंट्री का मौका मिलेगा। आप यह पढ़कर हैरान हो रहे होंगे, लेकिन यही सच है। डॉ.शकुंतला मिश्र राष्ट्रीय पुनर्वास विश्वविद्यालय ‘साइन लैंग्वेज’ की शिक्षा लेने के इच्छुक छात्रों को यह सुविधा देने की तैयारी कर रहा है। 

विकलांगों को समाज की मुख्यधारा में लाने में लगे डॉ.शकुंतला मिश्र राष्ट्रीय पुनर्वास विश्वविद्यालय मूकबधिर छात्रों को गुणवत्तायुक्त शिक्षा देने में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहता। हाईस्कूल करने के बाद मूकबधिर छात्रों को आगे की पढ़ाई करने में परेशानी का सामना करना पड़ता है। इंटर में साइन लैंग्वेज (मूकबधिरों को इशारों से पढ़ाई जाने वाली भाषा) की पढ़ाई का इंतजाम न होने की वजह से ऐसे छात्रों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। उनकी परेशानी को दूर करने के लिए डॉ.शकुंतला मिश्र विवि ने दो साल का ब्रिज कोर्स शुरू करने का निर्णय लिया है।

माध्यमिक शिक्षा परिषद द्वारा मान्यता प्राप्त इस दो साल के कोर्स को करने के बाद अभ्यर्थियों का प्रवेश सीधे स्नातक में हो सकेगा। प्रमुख सचिव माध्यमिक शिक्षा जितेंद्र कुमार ने विवि के प्रस्ताव को न केवल हरी झंडी दी है बल्कि इस कोर्स को मान्यता देने का भी आश्वासन दिया है।



शुल्क प्रतिपूर्ति की भी सौगात
मूक बधिरों के साथ ही अन्य प्रकार के विकलांगों को गुणवत्तायुक्त शिक्षा ग्रहण करने के लिए राष्ट्रीय विकलांग वित्त एवं विकास निगम शुल्क प्रतिपूर्ति के साथ ही छात्रवृत्ति भी प्रदान करेगा। यही नही विवि के बाहर प्रोफेशनल कोर्स के लिए चार फीसद ब्याज पर शैक्षणिक ऋण के अलावा स्वरोजगार के लिए लोन भी देगा।  दो साल के इस कोर्स का लाभ विकलांगों के साथ ही सामान्य वर्ग के छात्रों को भी मिलेगा। जुलाई से कोर्स शुरू करने की तैयारियां पूरी हो गई हैं। माध्यमिक शिक्षा परिषद से मान्यता का इंतजार है। ~ प्रो.निशीथ राय, कुलपति, डॉ.शकुंतला मिश्र राष्ट्रीय पुनर्वास विवि

Popular posts from this blog

खुशखबरी : सरकार ने पीपीएफ,एनएससी, सुकन्या समेत अन्य छोटी बचत योजनाओं पर बढ़ाई ब्याज दरें

खुशखबरी : सरकार ने पीपीएफ,एनएससी, सुकन्या समेत अन्य छोटी बचत योजनाओं पर बढ़ाई ब्याज दरें
राष्ट्रीय बचत प्रमाणपत्र (एनएससी) व सार्वजनिक भविष्य निधि (पीपीएफ) समेत लघु बचत योजनाओं में निवेश करने वालोंं के लिए केंद्र सरकार अच्छी खबर लाई है। उसने इनमें ब्याज दर बढ़ाने का फैसला किया है।


केंद्र सरकार ने राष्ट्रीय बचत प्रमाणपत्र (एनएससी) और सार्वजनिक भविष्य निधि (पीपीएफ) समेत लघु बचत योजनाओं के लिए ब्याज दर अक्तूबर-दिसंबर तिमाही के लिए 0.4 प्रतिशत तक बढ़ा दी है।  लघु बचत योजनाओं के लिए ब्याज दरों को तिमाही के आधार पर संशोधित किया जाता है।



वित्तमंत्री ने जारी अधिसूचना में कहा कि वित्त वर्ष 2018-19 की तीसरी तिमाही के लिए विभिन्न लघु बचत योजनाओं की ब्याज दरें संशोधित की जाती हैं।  पांच वर्ष की सावधि जमा, आवर्ती जमा और वरिष्ठ नागरिक बचत योजना की ब्याज दरें बढ़ाकर क्रमश: 7.8 प्रतिशत, 7.3 प्रतिशत और 8.7 प्रतिशत कर दी गयी हैं।  हालांकि बचत जमा के लिए ब्याज दर चार प्रतिशत बरकरार है।

■ पीपीएफ और एनएससी पर मौजूदा 7.6 प्रतिशत की जगह अब आठ प्रतिशत की सालाना दर से ब्याज मिलेगा।■ किसान विकास पत्र पर अब 7.7 प्र…

अब रेलवे के इस एप से बुक कर सकेंगे अनारक्षित और प्लेटफार्म टिकट : आइये जाने कैसे?

यात्रियों को ट्रेन की जनरल टिकट यानि अनारक्षित टिकट के लिए अब लंबी लाइन में नहीं लगना पड़ेगा। ऑनलाइन रिजर्वेशन की तरह ही आप अपने मोबाइल फोन से जनरल टिकट भी बुक करा सकेंगे।

रेल में यात्रा करने वालों के लिए एक अच्छी खबर है। यात्रियों को ट्रेन की जनरल टिकट यानि अनारक्षित टिकट के लिए अब लंबी लाइन में नहीं लगना पड़ेगा। ऑनलाइन रिजर्वेशन की तरह ही आप अपने मोबाइल फोन से जनरल टिकट भी बुक करा सकेंगे।

इसके लिए उपयोगकर्ता को रेलवे द्वारा बनाए गए एप utsonmobile को डाउनलोड कर उसमें अपना रजिस्ट्रेशन करना होगा। इसके बाद रेलवे काउंटर से रिचार्ज करवाकर उससे वह टिकट खरीद सकता है। रेलवे ने मोबाइल फोन के जरिए अनारक्षित टिकट एवं प्लेटफार्म टिकट की बुकिंग को लेकर प्रेस रिलीज जारी कर यह जानकारी दी है।



एेसे करें एप डाउनलोड और टिकट बुकिंग

स्टेप-1
सबसे पहले यात्री को एप utsonmobile में अपना रजिस्ट्रेशन करना होगा। रजिस्ट्रेशन के दौरान यात्री से सम्बंधित सामान्य जानकारी मांगी जाएगी, जिसमें नाम, मोबाइल नंबर, शहर, अधिकतर यात्रा किए जाने वाला रूट, जन्म तिथि, परिचय पत्र के साथ रजिस्ट्रेशन होने के बाद यूजर का नाम तथा …

कृत्रिम गुर्दे दूर करेंगे डायलिसिस का दर्द, 2020 तक बाजार में होगा कृत्रिम गुर्दा

देश में 2.5 लाख लोग गुर्दे संबंधी बीमारी से मौत के मुंह में चले जाते हैं। बीमारी के आखिरी चरण में डायलिसिस या गुर्दा प्रत्यारोपण का विकल्प बचता है जो बहुत खर्चीला है। यह कृत्रिम गुर्दा अपेक्षाकृत सस्ता होगा। उम्मीद है कि 2020 तक कृत्रिम गुर्दो की उपलब्धता बाजार में होगी।

गुर्दे (किडनी) के मरीजों को नया जीवन देने और डायलिसिस की पीड़ा को कम करने के लिए वैज्ञानिक अब कृत्रिम गुर्दे के विकास पर लगे हुए हैं। सब कुछ ठीक रहा तो घुटनों के प्रत्यारोपण की तरह कृत्रिम गुर्दा ट्रांसप्लांट जल्द शुरू होगा। तीन चरणों में बंटे इस प्रोजेक्ट में वैज्ञानिक दूसरे चरण में पहुंच गए हैं।

■ घुटनों के प्रत्यारोपण की तरह ट्रांसप्लांट होगा संभव
■ देश में दिन प्रतिदिन बढ़ रही मरीजों की संख्या

लखनऊ स्थित बाबा साहब भीम राव अंबेडकर विवि के प्राणि विज्ञान विभाग के प्रयोगशाला में कृत्रिम गुर्दे पर अध्ययन चल रहा है। अंबेडकर विवि के कुलपति प्रो.आरसी सोबती के अनुसार यह प्रयोग मृत जानवर (भैंस-बकरी) के शरीर के अंगों में किया जा रहा है। मनुष्य की जीवित कोशिकाओं को मृत जानवर के शरीर में प्रविष्ट कर उसे निर्धारित तापमान एवं अवधि …