Skip to main content

फर्जी वोटरों के नाम हटाने के लिए चुनाव आयोग की पहल, आधार से लिंक होंगे मतदाताओं के नाम

  • फर्जी वोटरों के नाम हटाने के लिए चुनाव आयोग की पहल
  • एक से अधिक जगह न हो नाम
  • आधार से लिंक होंगे मतदाताओं के नाम
  • विशेष स्वैच्छिक घोषणा अभियान चलाने का निर्णय

प्राय: देखा गया है कि कई मतदाता एक से अधिक स्थानों पर वोटर कार्ड बनवा लेते हैं, जो गैरकानूनी है और इसके लिए कारावास का प्रावधान है। चुनाव आयोग अब मतदाताओं के नाम आधार कार्ड से लिंक करने जा रहा है। इसके लिए तीन मार्च से राष्ट्रीय स्तर अभियान शुरू होगा, जो 31 जुलाई तक चलेगा। इस दौरान वोटर लिस्ट में संशोधन के साथ ही फर्जी वोटरों के नाम हटाए जाएंगे। आधार से लिंक करने का उद्देश्य भी यही है। 

The linking of electoral rolls with Aadhaar would be voluntary and it will not affect anyone’s right to vote, officials said.  The linking of Aadhaar may reduce the number of electors. Many people have voting rights in different constituencies. The exercise will prevent duplicate or multiple entries of electors in rolls and fake EPIC cards.

करीब पांच महीने के इस अभियान में पहचान पत्र में फोटो की गुणवत्ता दुरुस्त की जाएगी। मतदाता सूची का घर-घर जाकर सत्यापन होगा। इस दौरान मतदाताओं के मोबाइल व ई-मेल नंबर भी लिए जाएंगे। इसके बाद चुनाव आयोग मतदाताओं को विभिन्न गतिविधियों की सूचनाएं मोबाइल व मेल पर प्रदान करेगा। 12 अप्रैल को सभी विधानसभा क्षेत्रों के मतदान केंद्रों पर राष्ट्रीय स्तर पर विशेष अभियान चलाया जाएगा। इसके बाद जुलाई तक प्रत्येक रविवार को विशेष अभियान चलेगा। इसके लिए घर-घर जाकर मतदाताओं से आधार नंबर प्राप्त करने का निर्देश दिया गया है। इसे बाद उसे मतदाता सूची में मतदाता के नाम से लिंक किया जाएगा।



मतदाता सूची के विवरण को आधार नंबर से जोड़ने के लिए चुनाव आयोग की वेबसाइट पर जाकर फीड कर सकते हैं। इसके अलावा एसएमएस, जिला निर्वाचन अधिकारी को ई-मेल, राज्य के टोल फ्री नंबर 1950 पर कॉल कर तथा मोबाइल ऐप द्वारा फोटो पहचान पत्र और आधार कार्ड की प्रति प्रस्तुत कर सकते हैं। इसके अलावा लोग आधार कार्ड की प्रति के साथ अपने निर्वाचन क्षेत्र के बूथ स्तर के अधिकारी, निर्वाचक पंजीयन अधिकारी, जिला निर्वाचन अधिकारी से भी संपर्क कर सकते हैं।

Popular posts from this blog

कृत्रिम गुर्दे दूर करेंगे डायलिसिस का दर्द, 2020 तक बाजार में होगा कृत्रिम गुर्दा

देश में 2.5 लाख लोग गुर्दे संबंधी बीमारी से मौत के मुंह में चले जाते हैं। बीमारी के आखिरी चरण में डायलिसिस या गुर्दा प्रत्यारोपण का विकल्प बचता है जो बहुत खर्चीला है। यह कृत्रिम गुर्दा अपेक्षाकृत सस्ता होगा। उम्मीद है कि 2020 तक कृत्रिम गुर्दो की उपलब्धता बाजार में होगी।

गुर्दे (किडनी) के मरीजों को नया जीवन देने और डायलिसिस की पीड़ा को कम करने के लिए वैज्ञानिक अब कृत्रिम गुर्दे के विकास पर लगे हुए हैं। सब कुछ ठीक रहा तो घुटनों के प्रत्यारोपण की तरह कृत्रिम गुर्दा ट्रांसप्लांट जल्द शुरू होगा। तीन चरणों में बंटे इस प्रोजेक्ट में वैज्ञानिक दूसरे चरण में पहुंच गए हैं।

■ घुटनों के प्रत्यारोपण की तरह ट्रांसप्लांट होगा संभव
■ देश में दिन प्रतिदिन बढ़ रही मरीजों की संख्या

लखनऊ स्थित बाबा साहब भीम राव अंबेडकर विवि के प्राणि विज्ञान विभाग के प्रयोगशाला में कृत्रिम गुर्दे पर अध्ययन चल रहा है। अंबेडकर विवि के कुलपति प्रो.आरसी सोबती के अनुसार यह प्रयोग मृत जानवर (भैंस-बकरी) के शरीर के अंगों में किया जा रहा है। मनुष्य की जीवित कोशिकाओं को मृत जानवर के शरीर में प्रविष्ट कर उसे निर्धारित तापमान एवं अवधि …

वाट्सएप पर भेजे मैसेज अब वापस बुला सकेंगे, रीकॉल’ के नाम से मिलने वाली सुविधा में मैसेज को वापस बुलाने का विकल्प

सैन फ्रांसिस्को : वाट्सएप इस्तेमाल करने वालों के लिए एक अच्छी खबर है। मैसेजिंग एप जल्द ही भेजे गए मैसेज को वापस बुलाने का विकल्प देने जा रहा है। ‘रीकॉल’ के नाम से मिलने वाली इस सुविधा में यूजर को पांच मिनट तक किसी भी भेजे गए मैसेज को वापस लेने का मौका मिलेगा।



वाट्सएप या किसी भी मैसेजिंग एप पर कई बार गलती से किसी के लिए लिखा मैसेज दूसरे के नंबर पर चला जाता है। ऐसी स्थिति में पछताने के अलावा विकल्प नहीं बचता है। वाट्सएप पर आने वाले दिनों में इस मुश्किल का हल मिलने की उम्मीद है। वाट्सएप के नए फीचर जांचने वाली वेबसाइट ने इस बारे में जानकारी दी है।

वेटिंग टिकट कंफर्म होगा या नहीं बताएगा रेलवे, बुकिंग करते समय स्क्रीन पर ही आ जाएगा टिकट कंफर्म होगा या नहीं

ट्रेन का आरक्षित टिकट लेते समय वेटिंग मिलने पर सबसे बड़ी समस्या यह होती है कि यह कन्फर्म होगा या नहीं। इस परेशानी को दूर करने के लिए रेलवे व्यवस्था करने जा रहा है। इसके तहत आरक्षित टिकट लेते समय वेटिंग मिलने पर स्क्रीन पर यह भी दिखाया जाएगा कि सीट कन्फर्म होगी या नहीं। रेलवे बोर्ड ने इसके लिए सेंटर फॉर रेलवे इंफार्मेशन सिस्टम (क्रिस) को सॉफ्टवेयर तैयार करने के लिए कहा है।


■ बुकिंग करते समय स्क्रीन पर ही आ जाएगा टिकट कंफर्म होगा या नहीं
■ क्रिस को साफ्टवेयर तैयार करने के लिए कहा गया


ट्रेनों में बीच के स्टेशनों का सीट का कोटा होता है। उस स्टेशन से कोई यात्री टिकट नहीं लेता है तो वेटिंग वाले यात्रियों को बर्थ उपलब्ध करने का प्रावधान है। इसके अलावा कई अन्य श्रेणी का भी कोटा होता है। इसके भी फुल नहीं होने पर वेटिंग वाले यात्री को बर्थ दी जाती है। वीआइपी कोटा छोड़ दें तो अधिकांश श्रेणी के आरक्षित बर्थ खाली रहती हैं। यही कारण है कि भीड़ के समय भी स्लीपर में सौ वेटिंग तक होने के बाद भी सीट कन्फर्म हो जाता है। लेकिन समस्या टिकट लेते समय होती है। व्यक्ति वेटिंग टिकट ले तो लेता है लेकिन उसे यह आइ…