Skip to main content

Facebook and Reliance Internet.org initiative will provide popular websites with zero data charge

The Internet.org initiative will provide access to popular websites and services with zero data charge to make it easier for people to access the Internet across both the 2G and 3G platforms.

Facebook and Reliance Communications have launched Internet.net Android app in India. Internet.org aims to provide basic Internet access to people who aren’t yet connected for free. Last year in October, Facebook CEO had introduced the global project called Internet.org in the country.

“Users can can access these services in the Internet.org Android app, at http://www.internet.org, from the start screen of the Opera Mini mobile web browser, and using the Android app UC Browser for Internet.org. Most of the services will be available in English, Hindi, Tamil, Telugu, Malayalam, Gujarati and Marathi.”

रिलायंस कम्युनिकेशंस (आरकॉम) और फेसबुक के साझा करार से अब भारतीय उपभोक्ता 33 प्रमुख वेबसाइट पर बिना किसी शुल्क के जा सकेंगे। आरकॉम ने देश के एक अरब लोगों तक इंटरनेट की पहुंच बनाने के लिए यह करार किया है। मुफ्त वेबसाइट में सामाजिक, शैक्षिक, खेल, स्वास्थ्य व अन्य क्षेत्रों से जुड़ी साइट्स शामिल हैं।
आरकॉम और फेसबुक के बीच करार के तहत दोनों कंपनियों ने मिलकर इंटरनेटडॉटओआरजी लांच किया। इसके माध्यम से उपभोक्ता इन मशहूर इंटरनेट साइट पर बिना किसी शुल्क के जा सकेंगे। इस माध्यम से 2जी और 3जी दोनों ही माध्यम के ग्राहकों के लिए इंटरनेट पर जाना आसान हो जाएगा। आरकॉम की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक शुरुआत में ये सेवाएं रिलायंस उभोक्ताओं को मुंबई, महाराष्ट्र, गुजरात, आंध्र प्रदेश, चेन्नई, तमिलनाडु व केरल के टेलीकॉम सर्कल में उपलब्ध होंगी। इन सेवाओं को देश के बाकी हिस्सों में चरणबद्ध तरीके से और अधिक वेबसाइट के साथ पहुंचाने का लक्ष्य है। कंपनी के मुताबिक इंटरनेट डॉट ओआरजी की शुरुआत का उद्देश्य एक अरब लोगों तक इंटरनेट पहुंचाना है। इस शुरुआत से उपभोक्ता डेटा चार्ज की चिंता किए बगैर इंटरनेट इस्तेमाल कर सकेंगे।

Popular posts from this blog

अब रेलवे के इस एप से बुक कर सकेंगे अनारक्षित और प्लेटफार्म टिकट : आइये जाने कैसे?

यात्रियों को ट्रेन की जनरल टिकट यानि अनारक्षित टिकट के लिए अब लंबी लाइन में नहीं लगना पड़ेगा। ऑनलाइन रिजर्वेशन की तरह ही आप अपने मोबाइल फोन से जनरल टिकट भी बुक करा सकेंगे।

रेल में यात्रा करने वालों के लिए एक अच्छी खबर है। यात्रियों को ट्रेन की जनरल टिकट यानि अनारक्षित टिकट के लिए अब लंबी लाइन में नहीं लगना पड़ेगा। ऑनलाइन रिजर्वेशन की तरह ही आप अपने मोबाइल फोन से जनरल टिकट भी बुक करा सकेंगे।

इसके लिए उपयोगकर्ता को रेलवे द्वारा बनाए गए एप utsonmobile को डाउनलोड कर उसमें अपना रजिस्ट्रेशन करना होगा। इसके बाद रेलवे काउंटर से रिचार्ज करवाकर उससे वह टिकट खरीद सकता है। रेलवे ने मोबाइल फोन के जरिए अनारक्षित टिकट एवं प्लेटफार्म टिकट की बुकिंग को लेकर प्रेस रिलीज जारी कर यह जानकारी दी है।



एेसे करें एप डाउनलोड और टिकट बुकिंग

स्टेप-1
सबसे पहले यात्री को एप utsonmobile में अपना रजिस्ट्रेशन करना होगा। रजिस्ट्रेशन के दौरान यात्री से सम्बंधित सामान्य जानकारी मांगी जाएगी, जिसमें नाम, मोबाइल नंबर, शहर, अधिकतर यात्रा किए जाने वाला रूट, जन्म तिथि, परिचय पत्र के साथ रजिस्ट्रेशन होने के बाद यूजर का नाम तथा …

कृत्रिम गुर्दे दूर करेंगे डायलिसिस का दर्द, 2020 तक बाजार में होगा कृत्रिम गुर्दा

देश में 2.5 लाख लोग गुर्दे संबंधी बीमारी से मौत के मुंह में चले जाते हैं। बीमारी के आखिरी चरण में डायलिसिस या गुर्दा प्रत्यारोपण का विकल्प बचता है जो बहुत खर्चीला है। यह कृत्रिम गुर्दा अपेक्षाकृत सस्ता होगा। उम्मीद है कि 2020 तक कृत्रिम गुर्दो की उपलब्धता बाजार में होगी।

गुर्दे (किडनी) के मरीजों को नया जीवन देने और डायलिसिस की पीड़ा को कम करने के लिए वैज्ञानिक अब कृत्रिम गुर्दे के विकास पर लगे हुए हैं। सब कुछ ठीक रहा तो घुटनों के प्रत्यारोपण की तरह कृत्रिम गुर्दा ट्रांसप्लांट जल्द शुरू होगा। तीन चरणों में बंटे इस प्रोजेक्ट में वैज्ञानिक दूसरे चरण में पहुंच गए हैं।

■ घुटनों के प्रत्यारोपण की तरह ट्रांसप्लांट होगा संभव
■ देश में दिन प्रतिदिन बढ़ रही मरीजों की संख्या

लखनऊ स्थित बाबा साहब भीम राव अंबेडकर विवि के प्राणि विज्ञान विभाग के प्रयोगशाला में कृत्रिम गुर्दे पर अध्ययन चल रहा है। अंबेडकर विवि के कुलपति प्रो.आरसी सोबती के अनुसार यह प्रयोग मृत जानवर (भैंस-बकरी) के शरीर के अंगों में किया जा रहा है। मनुष्य की जीवित कोशिकाओं को मृत जानवर के शरीर में प्रविष्ट कर उसे निर्धारित तापमान एवं अवधि …

वेटिंग टिकट कंफर्म होगा या नहीं बताएगा रेलवे, बुकिंग करते समय स्क्रीन पर ही आ जाएगा टिकट कंफर्म होगा या नहीं

ट्रेन का आरक्षित टिकट लेते समय वेटिंग मिलने पर सबसे बड़ी समस्या यह होती है कि यह कन्फर्म होगा या नहीं। इस परेशानी को दूर करने के लिए रेलवे व्यवस्था करने जा रहा है। इसके तहत आरक्षित टिकट लेते समय वेटिंग मिलने पर स्क्रीन पर यह भी दिखाया जाएगा कि सीट कन्फर्म होगी या नहीं। रेलवे बोर्ड ने इसके लिए सेंटर फॉर रेलवे इंफार्मेशन सिस्टम (क्रिस) को सॉफ्टवेयर तैयार करने के लिए कहा है।


■ बुकिंग करते समय स्क्रीन पर ही आ जाएगा टिकट कंफर्म होगा या नहीं
■ क्रिस को साफ्टवेयर तैयार करने के लिए कहा गया


ट्रेनों में बीच के स्टेशनों का सीट का कोटा होता है। उस स्टेशन से कोई यात्री टिकट नहीं लेता है तो वेटिंग वाले यात्रियों को बर्थ उपलब्ध करने का प्रावधान है। इसके अलावा कई अन्य श्रेणी का भी कोटा होता है। इसके भी फुल नहीं होने पर वेटिंग वाले यात्री को बर्थ दी जाती है। वीआइपी कोटा छोड़ दें तो अधिकांश श्रेणी के आरक्षित बर्थ खाली रहती हैं। यही कारण है कि भीड़ के समय भी स्लीपर में सौ वेटिंग तक होने के बाद भी सीट कन्फर्म हो जाता है। लेकिन समस्या टिकट लेते समय होती है। व्यक्ति वेटिंग टिकट ले तो लेता है लेकिन उसे यह आइ…