Skip to main content

The Google Maps now gives new voice-based lane guidance feature for 20 cities in India.

The Google Maps apps for Android and iOS have been given a new voice-based lane guidance feature for 20 cities in India.

On Thursday, Google announced that the Google Maps app for Android and iOS will now enable users to see and hear voice-based instructions informing them which lane to take while in Navigation mode.

दुनिया की प्रमुख सर्च इंजन कंपनी गूगल ने अपने मैप्स पर 'लेन गाइडेंस' फीचर शुरू किया है. गूगल का यह नया फीचर वाहन चालकों को ‘वॉयस गाइडेड’ संकेत देगा कि उन्हें किस लेन में रहना चाहिए या जाना चाहिए।
 
Apart from 20 cities - Ahmedabad, Bangalore, Bhopal, Chandigarh, Chennai, Coimbatore, Delhi, Hyderabad, Indore, Jaipur, Kolkata, Lucknow, Mumbai, Mysore, Nagpur, Pune, Surat, Thiruvananthapuram, Vadodara and Visakhapatnam - the lane guidance will also work for major Indian expressways, including the Mumbai-Pune expressway, said company.

Google also announced that from Thursday, drivers in India can enjoy the turn-by-turn, voice-guided instructions in English as well as Hindi. Hindi speakers can choose to set Hindi as their preferred language by selecting the Hindi option from Settings>Language and input. Users can also choose English (India) language preference to hear voice-guided instructions in the Indian accent.

कंपनी के बयान में कहा गया है कि यह सेवा आइफोन, आइपैड व एंड्रायड आधारित उपकरणों पर गूगल मैप्स पर उपलब्ध होगी. शुरू में यह सेवा देश के बीस शहरों में उपलब्ध करायी जा रही है।   जिनमें अहमदाबाद, बेंगलूरु, भोपाल, चंडीगढ़, चेन्नई, कोयंबतूर, दिल्ली, हैदराबाद, इंदौर, जयपुर, कोलकाता, लखनऊ, मुंबई, मैसूर, नागपुर, पुणो, सूरत, तिरुवनंतपुरम, वडोदरा और विशाखापत्तनम शामिल हैं। 

कंपनी लेन गाइडेंस सेवा की पेशकश अमेरिका, कनाडा तथा जापान सहित 10 देशों में करती है. ये निर्देश हिंदी व अंग्रेजी में उपलब्ध होंगे। 

Popular posts from this blog

कृत्रिम गुर्दे दूर करेंगे डायलिसिस का दर्द, 2020 तक बाजार में होगा कृत्रिम गुर्दा

देश में 2.5 लाख लोग गुर्दे संबंधी बीमारी से मौत के मुंह में चले जाते हैं। बीमारी के आखिरी चरण में डायलिसिस या गुर्दा प्रत्यारोपण का विकल्प बचता है जो बहुत खर्चीला है। यह कृत्रिम गुर्दा अपेक्षाकृत सस्ता होगा। उम्मीद है कि 2020 तक कृत्रिम गुर्दो की उपलब्धता बाजार में होगी।

गुर्दे (किडनी) के मरीजों को नया जीवन देने और डायलिसिस की पीड़ा को कम करने के लिए वैज्ञानिक अब कृत्रिम गुर्दे के विकास पर लगे हुए हैं। सब कुछ ठीक रहा तो घुटनों के प्रत्यारोपण की तरह कृत्रिम गुर्दा ट्रांसप्लांट जल्द शुरू होगा। तीन चरणों में बंटे इस प्रोजेक्ट में वैज्ञानिक दूसरे चरण में पहुंच गए हैं।

■ घुटनों के प्रत्यारोपण की तरह ट्रांसप्लांट होगा संभव
■ देश में दिन प्रतिदिन बढ़ रही मरीजों की संख्या

लखनऊ स्थित बाबा साहब भीम राव अंबेडकर विवि के प्राणि विज्ञान विभाग के प्रयोगशाला में कृत्रिम गुर्दे पर अध्ययन चल रहा है। अंबेडकर विवि के कुलपति प्रो.आरसी सोबती के अनुसार यह प्रयोग मृत जानवर (भैंस-बकरी) के शरीर के अंगों में किया जा रहा है। मनुष्य की जीवित कोशिकाओं को मृत जानवर के शरीर में प्रविष्ट कर उसे निर्धारित तापमान एवं अवधि …

वाट्सएप पर भेजे मैसेज अब वापस बुला सकेंगे, रीकॉल’ के नाम से मिलने वाली सुविधा में मैसेज को वापस बुलाने का विकल्प

सैन फ्रांसिस्को : वाट्सएप इस्तेमाल करने वालों के लिए एक अच्छी खबर है। मैसेजिंग एप जल्द ही भेजे गए मैसेज को वापस बुलाने का विकल्प देने जा रहा है। ‘रीकॉल’ के नाम से मिलने वाली इस सुविधा में यूजर को पांच मिनट तक किसी भी भेजे गए मैसेज को वापस लेने का मौका मिलेगा।



वाट्सएप या किसी भी मैसेजिंग एप पर कई बार गलती से किसी के लिए लिखा मैसेज दूसरे के नंबर पर चला जाता है। ऐसी स्थिति में पछताने के अलावा विकल्प नहीं बचता है। वाट्सएप पर आने वाले दिनों में इस मुश्किल का हल मिलने की उम्मीद है। वाट्सएप के नए फीचर जांचने वाली वेबसाइट ने इस बारे में जानकारी दी है।

वेटिंग टिकट कंफर्म होगा या नहीं बताएगा रेलवे, बुकिंग करते समय स्क्रीन पर ही आ जाएगा टिकट कंफर्म होगा या नहीं

ट्रेन का आरक्षित टिकट लेते समय वेटिंग मिलने पर सबसे बड़ी समस्या यह होती है कि यह कन्फर्म होगा या नहीं। इस परेशानी को दूर करने के लिए रेलवे व्यवस्था करने जा रहा है। इसके तहत आरक्षित टिकट लेते समय वेटिंग मिलने पर स्क्रीन पर यह भी दिखाया जाएगा कि सीट कन्फर्म होगी या नहीं। रेलवे बोर्ड ने इसके लिए सेंटर फॉर रेलवे इंफार्मेशन सिस्टम (क्रिस) को सॉफ्टवेयर तैयार करने के लिए कहा है।


■ बुकिंग करते समय स्क्रीन पर ही आ जाएगा टिकट कंफर्म होगा या नहीं
■ क्रिस को साफ्टवेयर तैयार करने के लिए कहा गया


ट्रेनों में बीच के स्टेशनों का सीट का कोटा होता है। उस स्टेशन से कोई यात्री टिकट नहीं लेता है तो वेटिंग वाले यात्रियों को बर्थ उपलब्ध करने का प्रावधान है। इसके अलावा कई अन्य श्रेणी का भी कोटा होता है। इसके भी फुल नहीं होने पर वेटिंग वाले यात्री को बर्थ दी जाती है। वीआइपी कोटा छोड़ दें तो अधिकांश श्रेणी के आरक्षित बर्थ खाली रहती हैं। यही कारण है कि भीड़ के समय भी स्लीपर में सौ वेटिंग तक होने के बाद भी सीट कन्फर्म हो जाता है। लेकिन समस्या टिकट लेते समय होती है। व्यक्ति वेटिंग टिकट ले तो लेता है लेकिन उसे यह आइ…